अगले राष्ट्रमंडल खेलों में पदक का रंग बदलना चाहते हैं विकास

हमीरपुर (हिमाचल प्रदेश) : ग्लासगो राष्ट्रमंडल खेल-2014 में भारत को रजत पदक दिलाने वाले भारोत्तोलन खिलाड़ी विकास ठाकुर इन खेलों के अगले संस्करण में अपने पदक का रंग बदलना चाहते हैं। यही उनका अभी शीर्ष लक्ष्य है। अगले राष्ट्रमंडल खेल 2018 में आस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में आयोजित किए जाने हैं। इन खेलों के लिए हुई ट्रायल्स में विकास का चयन हो गया है। वह अब तैयारी के लिए पहले अमेरिका और फिर आस्ट्रेलिया रवाना होंगे।
लेकिन उससे पहले इस खिलाड़ी ने हिमाचल प्रदेश ओलम्पिक खेलों में हिस्सा लिया और स्वर्ण पदक हासिल किया।
विकास ने अपने अगले लक्ष्य के बारे में कहा, `मेरा जो प्राथमिक लक्ष्य है वो यह है कि मैं अगले राष्ट्रमंडल खेलोंे में अपने पदक का रंग बदलने की कोशिश करूंगा और पूरा प्रयास करूंगा कि इस बार स्वर्ण आ जाए। उसके बाद एशियाई खेलों की तैयारी करूंगा। विकास का मानना है कि भारोत्तोलन में भारत ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पिछले कुछ वर्षो में अच्छा विकास किया है, खासकर महिलाओं ने। उन्होंने कहा, `हमने बीते वर्षों में काफी सुधार किया है। हमारी महिलाओं ने अच्छा सुधार किया है। पुरुषों ने भी किया है, लेकिन अभी और सुधार करना बाकी है।`

यहां हिमाचल ओलम्पिक खेलों में खेलने पर विकास ने कहा, `स्तर की कोई बात नहीं है। मैं भी यहीं से निकला हूं। ऐसी कोई बात नहीं है कि आप बड़े खिलाड़ी हो तो नहीं खेल सकते। मैं यहां खेला हूं तो मुझे लगता है कि दूसरे खिलाड़ियों को मुझसे प्ररेणा मिलेगी। मुझे देखकर उनके मन में आएगा की हम भी कुछ करें। उनके मन में खटास होगी, लेकिन वो खटास अच्छी होगी।`

इन खेलों में और सुधार की बात को मानते हुए विकास ने कहा, `अभी भी सुधार की बहुत जरूरत है। अवसरंचना की कमी है। आपको खिलाड़ी तैयार करने हैं तो आपको अच्छी अवसंरचना और अच्छे साधन चाहिए जिनकी कमी है। लेकिन यह पहली बार है और आयोजकों ने अच्छा काम किया है। उम्मीद है कि आने वाले समय में सुधार होगा।`

Back to top button