छत्तीसगढ़

अगले 50 वर्ष तक राजनांदगाव के घर-घर मिलेगा पीने का पानी : डॉ. रमन सिंह

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जिला मुख्यालय राजनांदगांव को 286 करोड़ 38 लाख रूपए की लागत के विभिन्न विकास कार्यों की सौगात दी। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बजरंगपुर नवागांव में आयोजित कार्यक्रम में 266 करोड़ 42 लाख रूपए के विभिन्न कार्यों का भूमिपूजन किया साथ ही 19 करोड़ 21 लाख रूपए के कार्यों को शहर वासियों को लोकार्पित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राजनांदगांव शहर वासियों को पीने का साफ पानी उपलब्ध कराने अमृत मिशन योजना के तहत 210 करोड़ 56 लाख रूपए की जल प्रदाय योजना की आधारशिला भी रखी। उन्होंने राजनांदगांव शहर में एक करोड़ 51 लाख रूपए की लागत से निर्मित हाईटेक सिटी बस डिपो सह टर्मिनल का भी लोकार्पण किया।

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि अमृत मिशन योजना से शहर में पेयजल की दिक्कत दूर हो जायेगी और शहर वासियों को साफ पेयजल उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि इस योजना से वर्ष 2050 तक पेयजल की कोई समस्या नहीं रहेगी। डॉ. सिंह ने कहा कि अमृत मिशन योजना शहर वासियों के लिए अमृत के समान साबित होगी। उन्होंने बताया कि इस योजना के अंतर्गत खरखरा जलाशय से पाईप लाईन के माध्यम से प्रत्येक वार्ड में पानी पहुंचाया जायेगा। पानी को पीने योग्य बनाने के लिए 70 एमएलडी क्षमता का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट भी लगाया जायेगा। घर तक पहुंचते पानी का प्रेशर कम न हो इसके लिए 6 पानी की टंकी भी बनाई जायेगी। डॉ. सिंह ने अमृत मिशन योजना के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया। उन्होंने योजना को समय-सीमा में पूरा करने के निर्देश देते हुए कहा कि गुणवत्ता का भी विशेष रूप से ध्यान रखा जाए।

कार्यक्रम के दौरान सांसद अभिषेक सिंह ने कहा कि बजरंगपुर नवागांव वार्ड में पानी की प्रत्येक वर्ष कमी होती थी, लेकिन अमृत मिशन योजना से वार्डवासियों सहित पूरे शहर में पानी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहेगा। उन्होंने कहा कि गर्मियों में पानी की सबसे ज्यादा किल्लत होती थी लेकिन अमृत मिशन योजना के बाद साल भर पर्याप्त मात्रा में पेयजल उपलब्ध होगा। कार्यक्रम में महापौर मधुसूदन यादव ने कहा कि बजरंगपुर नवागांव क्षेत्र की जनता के जुड़ाव के कारण मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम इसी क्षेत्र में करने का निर्देश दिया है। श्री यादव ने कहा कि भारी संख्या में वार्डवासियों की उपस्थिति दर्शाती है कि यहां के लोगों का मुख्यमंत्री डॉ. सिंह के प्रति विशेष लगाव है। उन्होंने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री इतने संवेदनशील है कि क्षेत्र की जनता जो भी मांग रखती है उसे मुख्यमंत्री तुरंत पूरा कर देते हैं। श्री यादव ने क्षेत्रवासियों की तरफ से मुख्यमंत्री से शासकीय विद्यालय को 12वीं तक करने की मांग की। जिसपर मुख्यमंत्री ने संवेदनशीलता से विचार करने का आश्वासन दिया।

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राजनांदगांव नगर निगम क्षेत्र को खुले में शौच मुक्त घोषित कराने के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के उत्साहवर्धन के लिए प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। इस दौरान उन्होंने डस्टबिन वितरण योजना की शुरूआत करते हुए कुछ समूहों को गीले एवं सूखे कचरे के लिए हरे और नीले रंग के डस्टबिन वितरित किये। कार्यक्रम में उन्होेंने डोर टू डोर ई-रिक्शा, उवला गैस कनेक्शन, डिजिटल साक्षरता अभियान के तहत उत्तीर्ण प्रमाण पत्र भी वितरित किये।
इस अवसर पर महापौर मधुसूदन यादव, बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष खूबचंद पारख, छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष रामजी भारती, छत्तीसगढ़ राज्य भण्डार गृह निगम के अध्यक्ष नीलू शर्मा, छत्तीसगढ़ उर्दू अकादमी के अध्यक्ष अकरम कुरैशी, विधायक डोंगरगढ़ सरोजनी बंजारे, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष सचिन बघेल, राजगामी संपदा न्यास के अध्यक्ष रमेश पटेल, राज्य महिला आयोग के सदस्य डॉ. रेखा मेश्राम, नगर निगम के सभापति शिव वर्मा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष भरत वर्मा, राजगामी संपदा न्यास के पूर्व अध्यक्ष संतोष अग्रवाल, कोमल सिंह राजपूत, राजेश श्यामकर के अलावा कलेक्टर भीम सिंह, पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल सहित जनप्रतिनिधि एवं बडी़ संख्या में आम नागरिक उपस्थित थे।

Tags
Back to top button