अपने गांवों को विकास योजनाओं से जोड़ें : डॉ. रमन सिंह

अपने गांवों को विकास योजनाओं से जोड़ें : डॉ. रमन सिंह

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पंचायत प्रतिनिधियों का आव्हान किया है कि वे अपने अपने गांवों को शासन की विकास योजनाओं से जोड़े। विभिन्न योजनाओं के पात्र हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ दिलाने में मदद करें। मुख्यमंत्री आज यहां अपने निवास पर भाटापारा (जिला बलौदाबाजार), मरवाही (जिला बिलासपुर) और धरमजयगढ़ (जिला रायगढ़) से आये 541 पंचायत प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। ये पंचायत प्रतिनिधि हमर छत्तीसगढ़ योजना के अंतर्गत राजधानी रायपुर के भ्रमण पर आये हैं। इस योजना में अब तक प्रदेश के विभिन्न जिलों के लगभग एक लाख 40 हजार पंचायत प्रतिनिधि रायपुर आ चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने पंचायत प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि हमर छत्तीसगढ़ योजना वास्तव में पंचायत प्रतिनिधियांे का प्रशिक्षण भी है। राजधानी आकर हमारे प्रतिनिधि विधानसभा, सचिवालय की कार्यप्रणाली से परिचित होते हैं। फिल्म, विभागों के विभिन्न प्रकाशनांे , लोक कलाकारों के कार्यक्रमों के जरिए उन्हें योजनाओं की जानकारी मिलती है। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती किसानों के आधुनिक तौर तरीकों से परिचित होने का मौका मिलता है। इनका क्रियान्वयन गांवों में किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का अधिक से अधिक संख्या में ग्रामीणों को लाभ दिलाएं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में अब तक गरीब परिवारों की 18 लाख से अधिक महिलाओं को मात्र दो सौ रुपए के पंजीयन शुल्क पर रसोई गैस कनेक्शन दिए गए हैं। अभी और 18 लाख रसोई गैस कनेक्शन दिए जाने हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत अब तक दो लाख 40 हजार आवास स्वीकृत किए जा चुके हैं। इन योजनाओं से अधिक से अधिक पात्र लोगों को लाभान्वित किया जाना चाहिए। यदि गांव में हर परिवार का मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का स्मार्ट कार्ड बन जाता है, तो जीवन भर के लिए उस परिवार के लिए एक बड़ी सहायत होगी। स्मार्ट कार्ड से अब 50 हजार रुपए तक का निःशुल्क इलाज की सुविधा मिलेगी। उन्होंने कहा कि पंचायत प्रतिनिधियों को गांव में टीकाकरण, संस्थागत प्रसव, स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्रों की व्यवस्था का ध्यान रखना चाहिए, सभी बच्चे स्कूल जा रहे हैं या नहीं, शिक्षक नियमित रुप से बच्चों को पढ़ा रहे हैं या नहीं। उन्होंने गांवों को साफ-सुथरा और हरा-भरा बनाये रखने, गुणवत्तापूर्ण निर्माण कार्य कराने का सुझाव दिया।

advt
Back to top button