अमेरिकी राजदूत से कुमारस्वामी ने किया बेंगलूरु में वाणिज्य दूतावास खोलने का अनुरोध

दूतावास खोलने के​ लिए भूमि और भवन उपलब्ध

मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने भारत में अमेरिकी राजदूत से अपील की है कि वह जल्द से जल्द बेंगलूरु में अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास खोलने में मदद करें क्योंकि राज्य के लोगों में अमेेरिका की यात्रा करने की काफी दिलचस्पी रहती है। गुरुवार को यहां अमेरिकी राजदूत केनेथ जस्टर के साथ हुई बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि वह चाहते हैं कि बेंगलूरु में सभी देशों के और खास तौर पर अमेरिकी महावाणिजय दूतावास खुलें।

उन्होंने बेंगलूरु और अमेरिका के बीच एक खास और गर्मजोशी भरा संबंध होने का दावा भी किया। इस आधार पर दोनों देशों के लोगों को एक—दूसरे के बारे में बेहतर ढंग से जानने और एक—दूसरे देश की यात्रा में मदद की जानी चाहिए।

उन्होंने कर्नाटक में अमेरिकी वीजा की मांग बढ़ने की भी जानकारी राजदूत को दी है। बेंगलूरु में अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास खोलने के लिए आधारभूत सुविधाओं की कठिनाई नहीं है। यहां दूतावास खोलने के​ लिए भूमि और भवन उपलब्ध हैं। जैसे ही अमेरिका अपना महावाणिज्य दूतावास यहां खोलने का निर्णय लेता है, वैसे ही राज्य सरकार उसे यह सुविधाएं उपलब्ध करवा देगी।<.p>

कुमारस्वामी ने इस बात की ओर भी अमेरिकी राजदूत का ध्यान आकर्षित किया ​कि कर्नाटक मूल के लोग एक बड़ी संख्या में अमेरिका में जाकर बस गए हैं। वहां वह कई प्रभावशाली पदों पर कार्यरत हैं। इसके साथ ही पर्यटन के लिए अमेरिका जाने वाले कन्नड़िगाओं की संख्या में भी काफी तेजी से इजाफा हुआ है। बेंगलूरु में अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास खुले तो अलग—अलग वीजा पर अमेरिका की यात्रा करने के लिए लोगों को जरूरी दस्तावेज हासिल करने में आसानी होगी।

कुमारस्वामी की इस अपील पर अमेरिकी राजदूत जस्टर ने काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने बताया ​कि कुमारस्वामी के अनुरोध के बारे में वह अमेरिका में संबंधित विभाग के उच्चतर अधिकारियों को अवगत कराएंगे।

कुमारस्वामी से मुलाकात करने पहुंचे जस्टर के साथ चेन्नई में पदस्थ अमेरिकी महावाणिज्य दूत रॉबर्ट जी. बर्जेस, राजनीतिक/आर्थिक अधिकारी जोसेफ बर्नात और लोक मामलों के अधिकारी लॉरेन लवलेस भी शामिल थे।

इस बीच अमेरिकी राजदूत ने इस मुलाकात के दौरान बताया कि बेंगलूरु में 370 अमेरिकी कंपनियां काम कर रही हैं और राज्य की अर्थव्यवस्था में अपना सकारात्मक योगदान दे रही हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री कुमारस्वामी से अपील की कि वह इन कंपनियों के सामने पेश आ रही ढांचागत सुविधा के मुद्दों पर उनकी मदद करें। कुमारस्वामी ने उनके अनुरोध पर तत्काल इन कं​पनियों की समस्याओं पर गौर करने और प्राथमिकता के आधार पर उनका समाधान तलाशने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है।

अमेरिकी राजदूत से कुमारस्वामी की इस मुलाकात में मौजूद कर्नाटक की मुख्य ​सचिव रत्नप्रभा ने शहर में यातायात और पेयजल की समस्याओं से निपटने के लिए लागू की जा रहीं परियोजनाओं की जानकारी दी।

इनमें मेट्रो रेल प्रणाली को 200 किलोमीटर इलाके में फैलाने, एलिवेटेड एक्सप्रेस हाइवे बनाने और एक अरब डॉलर की लागत से विकसित की जा रही पेयजल परियोजना की जानकारी शामिल थी। यह पेयजल परियोजना एक जापानी कंपनी के निवेश से विकसित की जा रही है।

बैठक के दौरान अमेरिकी और भारतीय पक्षों ने दोनों देशों के रिश्तों में आती गर्मजोशी और आपसी सहयोग का जिक्र भी किया। पर्यटन, विज्ञान, सूचना प्रौद्योगिकी, जैव तकनीक और स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में भारत और अमेरिका के बीच लगातार बढ़ रहे सहयोग पर भी चर्चा हुई।

वहीं, अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल ने कई क्षेत्रों में कर्नाटक की विशिष्ट उपलब्धियों का जिक्र भी किया। आईटी और बीटी के नक्शे पर बेंगलूरु को एक महत्वपूर्ण गंतव्य के रूप में मिली जगह को भी अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल ने काफी सराहा।

मुलाकात के दौरान राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय भास्कर, डीवी प्रसाद, लक्ष्मीनारायण और गौरव गुप्ता भी मौजूद थे।

new jindal advt tree advt
Back to top button