रमन सरकार ने पिछले 15 वर्षों में छत्तीसगढ़ को बर्बाद किया : गोपाल राय

क्लिपर28 से बातचीत में दिल्ली के मंत्री ने रखी अपनी बेबाक राय

रायपुर।

दिल्ली सरकार में रोजगार, विकास, श्रम, सामान्य प्रशासन और सिंचाई विभागों का प्रभार संभाल रहे गोपाल राय ने छत्तीसगढ़ की डॉ. रमन सिंह सरकार पर प्रदेश की सारी व्यवस्थाएं चौपट करने का आरोप लगाया है। शिक्षा और स्वास्थ्य के मामलों में यहां दिखने वाली अव्यवस्था के माहौल पर सरकार को आड़े हाथों लेते हुए राय ने कहा, ‘अगर छत्तीसगढ़ वासियों को अपना भविष्य संवारने के लिए बेहतर शिक्षा व्यवस्था की चाह हो, अपनी मां के बेहतर इलाज की सुविधा की चाह हो, किसानों को अपनी फसल के लिए 2600 रुपए का समर्थन मूल्य चाहिए हो तो उन्हें आम आदमी पार्टी को अपना व्यापक समर्थन देकर प्रदेश की सत्ता में आने का मौका देना ही देना चाहिए।’ छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पूर्व यहां के पार्टी कार्यकर्ताओं, प्रत्याशियों और पदाधिकारियों को चुनावी राजनीति का प्रशिक्षण देने के लिए गोपाल राय 26 जुलाई को रायपुर पहुंचे। वह कार्यकर्ताओं को 27 से 29 तक चुनावी राजनीति का प्रशिक्षण देंगे। प्रस्तुत हैं गोपाल राय के साथ क्लिपर28 डॉट कॉम के राजकुमार भट्टाचार्य की बातचीत के अंश :

क्लिपर28 : प्रशिक्षण शिविर में मुख्य रूप से किन—किन बिंदुओं पर जोर दिया जाएगा?

गोपाल राय : आम आदमी पार्टी छत्तीसगढ़ में बदलाव लाने के लिए चुनाव लड़ने जा रही है। कल से शुरू होने वाले प्रशिक्षण शिविर में मुख्य रूप से चार बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की नफरत की राजनीति के बारे में कार्यकर्ताओं को जागरूक किया जाएगा। देश और समाज को तोड़ने की राजनीति का मुकाबला कैसे किया जाए, इसको लेकर देश के कई प्रख्यात चिंतक और विचारक अपनी बात रखेंगे। छत्तीसगढ़ में चुनावी तैयारियों की समीक्षा होगी। पार्टी की चुनावी रणनीति को निश्चित आकार देने के लिए विचार—विमर्श किया जाएगा। वहीं, प्रशिक्षण शिविर के दौरान विशेषज्ञों द्वारा रखे जानेवाले विचारों का सार पार्टी के चुनाव घोषणा पत्र की नींव बनेगा। इसके साथ ही आने वाले दिनों में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा यह भी इसी ​प्रशिक्षण शिविर के दौरान तय किया जाएगा।

क्लिपर28 : माना यह जाता हे कि राजनीतिक प्रशिक्षण तब दिया जाना चाहिए, जब आपको विपक्ष के ढाई चालों की जानकारी हो। आपकी तैयारी क्या है?

गोपाल राय : हम छत्तीसगढ़ में बदलाव के लिए काम करना चाहते हैं। भाजपा के 15 वर्षों के कार्यकाल में प्रदेश की जो दुर्दशा हुई है, उसे अगले 5 वर्षों में कैसे सुधारा जाए, इस बिंदु पर हम अधिक ध्यान देंगे। इस पर विशेष चर्चा होगी।


क्लिपर28 :
आम आदमी पार्टी आज तक छत्तीसगढ़ में ऐसा कोई मुद्दा नहीं उठा सकी है, जिस पर जनांदोलन छिड़ जाए। अब चूंकि समय काफी कम रह गया है तो आप इस ओर क्या करने वाले हैं?
गोपाल राय : सिर्फ एक मुद्दे को उछालना बड़ी बात नहीं है। छत्तीसगढ़ के अंदर सभी बिंदुओं पर व्य​वस्थित बदलाव की आवश्यकता है। चाहे शिक्षा का मसला हो, बेरोजगारी का मुद्दा हो, स्वास्थ्य का मसला हो या फिर किसानों का, हर क्षेत्र में व्यापक व्यवस्थागत बदलाव की जरूरत महसूस की जा रही है। आम आदमी पार्टी राज्य में जो आंदोलन चला रही है, वह भाजपा सरकार द्वारा पिछले 15 वर्षों में प्रदेश की हर व्यवस्था को बर्बाद करने के विरोध में चलाया जा रहा है।

क्लिपर28 : पिछले कुछ समय से डॉ. रमन सिंह की सरकार द्वारा भाजपा के केंद्रीय फंड में हजारों करोड़ रुपए का चंदा दिए जाने की चर्चा है। आपको छत्तीसगढ़ की पार्टी इकाई से कितने चंदे की उम्मीद है?

गोपाल राय : देखिए, आम आदमी पार्टी फंड की राजनीति नहीं करती है। चूंकि छत्तीसगढ़ में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी ने फंड की राजनीति की है, इसलिए यहां शिक्षा की हालत खराब है। कृषि में विकास नहीं हो रहा है। आम आदमी पार्टी फंड के पैसे शिक्षा, स्वास्थ्य और कृषि के साथ ही हर उस क्षेत्र में करेगी जहां विकास की सख्त जरूरत महसूस होती है। दिल्ली सरकार राज्य की वार्षिक राजकीय सकल उत्पाद यानी जीएसडीपी का 25 प्रतिशत शिक्षा पर और 15 प्रतिशत स्वास्थ्य पर खर्च करती है। ‘आप’ की राजनीतिक विचारधारा ही यही है कि जनता का पैसा जनता के ही विकास में खर्च किया जाए। अगर छत्तीसगढ़ में ‘आप’ की सरकार बनती है तो यहां के विधायक, मंत्री और मुख्यमंत्री आगामी पांच वर्षों तक जनता को अपने आय—व्यय का ब्यौरा देंगे।

क्लिपर28 : आम आदमी पार्टी व्यवस्था बदलने की बात करती है। इसके लिए जिस व्यापक प्रशासनिक अनुभव की जरूरत होती है, क्या छत्तीसगढ़ के स्तर पर इस पार्टी के पास मौजूद है?

गोपाल राय : निश्चित रूप से है। ईमानदारी से काम करने के लिए ईमानदार नीयत चहिए। हमारे जितने भी प्रत्याशी अब तक घोषित हुए हैं, उनमें से अधिकांश लोग उच्च शिक्षित और प्रशासनिक अनुभवों के मामले में समृद्ध हैं। हमारे साथ डॉ. संकेत ठाकुर जैसे कृषि वैज्ञानिक हैं, जिनको पता है कि राज्य में कृषि के विकास के लिए क्या कदम उठाया जाना जरूरी है। हमारे पास न्याय व्यवस्था में सुधार की दृष्टि रखने वाले पूर्व जज हैं। चंद्रहास देवांगन जैसे पूर्व वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी भी हमारे साथ हैं, जिन्हें प्रशासनिक सुधार के लिए आवश्यक कदमों की पूर्ण जानकारी है। हमारे पास कोमल हुपेंडी जैसे युवा बैंकर्स हैं। हमारे पास डॉक्टरों की फौज है, इंजीनियर्स की फौज है। यह तमाम लोग ऐसे हैं, जो अपने जीवन में बेहतर कुछ करना चाहते हैं।

क्लिपर28 : आपने अब तक 68 विधानसभा प्रत्याशियों के नाम घोषित किए हैं। इनमें से अधिकांश शिक्षा के पायदान पर काफी निचले तबके पर मौजूद हैं।

गोपाल राय : यह उल्टी बात है। हमारे अधिकांश प्रत्याशी उच्च शिक्षित हैं। इन लोगों को न तो कांग्रेस चुनाव लड़ने के काबिल समझती और न ही भाजपा। यह जरूर है कि कुछ आदिवासी इलाकों में ऐसे लोगों को तरजीह दी गई है, जिन्होंने स्थानीय मुद्दों पर लंबे समय से आंदोलन और संघर्ष किया है। ‘आप’ ने समाज के प्रति उनके जिम्मेदारी के भाव को सलाम करते हुए उन्हें अपने टिकट पर चुनाव लड़ाने का निर्णय लिया है।

क्लिपर28 : चुनाव प्रचार अभियान में ‘आप’ के स्टार प्रचारक कौन होंगे?
गोपाल राय : हमारा स्टार प्रचारक तो आम आदमी ही होता है। हमारा सबसे बड़ा हथियार है डोर—टु—डोर कैंपेन। जमीनी स्तर पर काम—काज से पार्टी आम लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाने में कामयाब होगी।

Back to top button