जिन गांवों में पेयजल की समस्याए वहां ट्रांसपोर्टिंग से भेजा जाएगा पानी

कलेक्टर ने एसडीएम से कहा कि पेयजल व्यवस्था की लगातार मानीटरिंग करें, जहां समस्या आए, वहां फौरन करें निदान

राजनांदगांव । जिन गांवों में पेयजल की समस्या है वहां ट्रांसपोर्टिंग के माध्यम से पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। एसडीएम स्वयं ग्रामीण क्षेत्रों की मानीटरिंग करें और पेयजल संबंधी दिक्कत पाये जाने पर फौरी कार्रवाई सुनिश्चित करें। यह निर्देश कलेक्टर श्री भीम सिंह ने समय-सीमा की बैठक में दिए। उन्होंने कहा कि पेयजल उपलब्ध कराना प्रशासन की पहली प्राथमिकता है, इसके लिए हर संभव मदद प्रशासन द्वारा की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन गांवों में गर्मी में समस्या विकराल रूप ले सकती है वहां पेयजल की संभावित आवश्यकता तथा इसके लिए संभावित लागत तैयार कर लें ताकि पूरी योजना से गर्मी में काम कर लोगों को पेयजल की दिक्कत से निजात दिलाई जा सके। कलेक्टर ने मनरेगा कार्यों की समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि मनरेगा से लोगों को पर्याप्त संख्या में रोजगार मिलना चाहिए, इसे सुनिश्चित करने मई तक की कार्ययोजना तैयार कर लें, इसमें कम से कम पांच बड़े कार्य होने चाहिए। उन्होंने सभी जनपद सीईओ को हर गांव में कराये जाने वाले मनरेगा कार्यों की सूची भी देने निर्देशित किया। श्री सिंह ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की समीक्षा भी की तथा हर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में महिला और पुरुषों के लिए पृथक-पृथक शौचालय बनाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने एनआरसी सेंटर के कार्यों की समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि कुपोषण की समस्या सबसे अहम समस्या है इस लिहाज से एनआरसी की बड़ी जिम्मेदारी है। स्वास्थ्य अधिकारी नियमित रूप से एनआरसी सेंटर की समीक्षा करें ताकि कुपोषण मुक्ति की दिशा में और तेजी से बढ़ा जा सके। कलेक्टर ने बैठक में श्रम विभाग की योजनाओं की प्रगति की समीक्षा भी की। बैठक में डीएफओ श्री मोहम्मद शाहिद, अपर कलेक्टर श्री जेके धु्रव, एसडीएम श्री प्रभात मलिक, सहायक कलेक्टर डॉ. रवि मित्तल तथा सभी जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

हर ग्राम पंचायत में होगा भारत वाहिनी का गठन : बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री चंदन कुमार ने बताया कि जिले के हर ग्राम पंचायत में भारत माता वाहिनी का गठन होगा। इसमें 15 सदस्य होंगे जो नशामुक्ति अभियान के लिए कार्य करेंगे। सीईओ ने 15 जनवरी तक सभी ग्राम पंचायतों में भारत वाहिनी के गठन के निर्देश दिए हैं। अभियान की मानीटरिंग के लिए जिला स्तर पर भी समिति रहेगी। इसके अध्यक्ष कलेक्टर होंगे। पुलिस अधीक्षक, जिला पंचायत सीईओ, सीएमएचओ, उप संचालक समाज कल्याण, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास एवं दो सामाजिक कार्यकर्ता इसके सदस्य होंगे। सहायक आयुक्त आबकारी इसके सदस्य सचिव होंगे।

advt
Back to top button