दार्जीलिंग में बंद से चाय उद्योग प्रभावित

दार्जीलिंग : दार्जीलिंग में अनिश्चितकालीन बंद का यहां के प्रसिद्ध चाय बागानों पर खासा असर देखने को मिल रहा है और उच्च गुणवत्ता वाली दूसरी फसल की चाय पियां बेकार हो रही हैं जिससे बागान मालिकों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। इससे दो लाख चाय बागान मजदूरों की आजीविका पर भी संकट खड़ा हो गया है।

दार्जीलिंग में 87 चाय बागान हैं और अभी चल रहे बंद की वजह से ये बंदी के कगार पर पहुंच गये हैं। चाय बागान मालिकों को लगता है कि उन्हें इस बंद से सालाना राजस्व के 45 फीसदी का नुकसान होगा।

गुडरिक ग्रुप लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अरूण सिंह ने पीटीआई को बताया, यह दूसरी फसल का मौसम है जो बेहद उच्च गुणवत्ता वाली चाय की देता है। इस मौसम में होने वाला चाय का उत्पादन कुल राजस्व का करीब 40 फीसदी होता है। हम इसे पूरी तरह खो देंगे क्योंकि बड़ी हो जायेंगी। पश्चिम बंगाल स्थित इस समूह के दार्जीलिंग में कई चाय बागान हैं और यह यहां होने वाले कुल चाय उत्पादन में 10 फीसदी हिस्सेदारी रखता है।

Back to top button