पाकिस्तान में तेल से भरे टैंकर में लगी आग, 140 लोगों की मौत और 100 से ज्यादा घायल

नई दिल्ली: पाकिस्तान में तेल से भरे टैंकर के पलटने और उसमें आग लगने से 123 से ज्यादा लोगों की झुलसकर मौत हो गई और 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए. यह हादसा पंजाब के सिंध प्रांत के बहावलपुर शहर के अहमद पूर शरकिया इलाके में हुआ. डॉन की खबर के मुताबिक पंजाब के बहावलपुर में ऑयल से भरे टैंकर की गति काफी तेज थी, जिसके चलते उसका संतुलन बिगड़ गया. टैंकर के गिरते ही उसमें आग लग गई और वह ब्लॉस्ट हो गया. बताया जा रहा है कि टैंकर के पलटने के बाद सड़क पर तेल गिरने लगा. आसपास के लोग वहां जुट गए और तेल उठाने लगे, तभी टैंकर में जोरदार धमाका हुआ और इतनी संख्या में लोग जान गंवा बैठे.

टैंकर की चपेट में आने से वहां से गुजर रही 6 कारें और 12 बाइक्स आग के हवाले हो गई। सभी घायलों को नजदीक के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.
समाचार चैनल ‘जियो’ के अनुसार, सूत्रों ने बताया कि अधिकांश पीड़ित बहावलपुर शहर के अहमदपुर शरकिया इलाके के राजमार्ग के आसपास रहने वाले लोग थे.

घयालों को बहावलपुर विक्टोरिया अस्पताल और आसपास के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों में भर्ती कराया गया है. पुलिस ने कई घायलों की स्थिति नाजुक होने के कारण मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई है.

‘डॉन’ के मुताबिक, आग की लपटें फैलने के तुरंत बाद ही दमकलकर्मी घटनास्थल पर पहुंच गए और बचाव अभियान शुरू हो गया. दो दमकल वाहनों ने आग बुझाने की कोशिश की और आखिरकार उसे नियंत्रित कर लिया. आसपास खड़ी छह कारें और 12 मोटरसाइकिल भी बुरी तरह जल गए.

पंजाब प्रांत के बचाव सेवा के निदेशक रिजवान नसीर ने कहा कि कई शव बुरी तरह झुलसे हुए हैं, जिससे मृतकों की पहचान बेहद मुश्किल हो गई है.

पीड़ितों की मदद के लिए सेना उतरी : सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा ने बचाव कार्यों में नागरिक प्रशासन की सहायता करने का निर्देश सेना को दिया है. बचाव कार्य में घायलों को अस्पताल ले जाने के लिए सेना के हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल हुआ.

पीएम नवाज ने जताया दुख : प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि पंजाब प्रांत की सरकार को घायलों को सभी चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने के निर्देश दिए गए हैं.
बयान के अनुसार, “प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने बहवालपुर के अहमदपुर शरकिया में तेल टैंकर के पलट जाने से हुए हादसे में बड़ी संख्या में लोगों के हताहत होने पर गहरा दुख जताया है.”

Back to top button