योगी सरकार के बजट में भी गांव, गरीब एवं किसानों पर जोर

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने वर्ष 2018-19 के लिए 4 लाख 28 हजार 384 करोड़ 52 लाख रुपये का बजट विधानसभा में पेश किया, जिसमें मुख्य जोर गांव, गरीब एवं किसानों पर दिया गया। सरकार ने बजट में 14,000 करोड़ रुपये की नई योजनाओं की घोषणा की है।

इससे पहले केंद्र सरकार ने 1 फरवरी को वर्ष 2018-19 के लिए जो बजट पेश किया था, उसमें भी मुख्य फोकस किसानों, गरीबों और कमजोर तबकों पर रहा और उनके लिए कई कार्यक्रमों की शुरुआत का ऐलान किया गया।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में शुक्रवार को वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने वर्ष 2018-19 का बजट पेश किया। यह बजट पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में 11.4 प्रतिशत अधिक है। अग्रवाल ने बजट पेश करते हुए कहा, ‘बजट में गांव, गरीब एवं किसानों का भरपूर ख्याल रखा गया है। वर्ष 2018-19 के वित्तीय बजट में 44 हजार 53 करोड़ रुपये के राजकोषीय घाटे का अनुमान है।’

वित्त मंत्री ने कहा, ‘बुंदेलखंड में खेत तालाब योजना के तहत 5,000 तालाबों के निर्माण का लक्ष्य रखा है। सोलर फोटो वोल्टाइक इरीगेशन पंपों के लिए 131 करोड़ रुपये का प्रावधान बजट में किया गया है।’

योगी सरकार ने सत्ता में आने के बाद पिछले साल 3,84,659.71 करोड़ रुपये का बजट पेश किया था। किसान कर्ज माफी के चुनावी वायदे को पूरा करने के लिए 36 हजार करोड़ रुपये का विशेष प्रावधान किया गया था। किसान कर्ज माफी बीजेपी का बड़ा चुनावी वायदा था और इसे पूरा करना योगी सरकार के लिए एक चुनौती थी।

new jindal advt tree advt
Back to top button