योग को अपनाना सही मायनों में क्रांतिकारी कदम : संजय

रायपुर : गुरू घासीदास संग्रहालय में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश प्रवक्ता एवं आरडीए अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव ने कहा कि देश में रूपांतरण लाने के लिए योग को अपनाना सही मायनों में एक क्रांतिकारी कदम है, क्योंकि व्यक्तिगत रूपांरण के बिना, सारे संसार का रूपांतरण नहीं किया जा सकता। योग एक ऐसा सिस्टम है जो तार्किक तौर पर उचित तथा वैज्ञानिक रूप से मान्य है। यौगिक सिस्टम को हर व्यक्ति तक ले जाने का प्रयत्न, मनुष्य के जीवन में अच्छी सेहत, कल्याण तथा प्रचुरता की इच्छा को पुरा करने से जुड़ा है। जो व्यक्ति नियमित रूप से योग करता है, उसे चिकित्सक के पास जाने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि जहां योग व खेल की आदत हो, वहां पर अपराध कम होते है। हमारे देश में अधिकांश लोगों में नशे की प्रवृत्ति पाई जाती है, जिससे छुटकारा पाने के लिए सभी को योग करना आवश्यक है । योग की क्रियाएं करना तथा इसे अपने जीवन की दिनचर्या में ढाल लेना ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की सार्थकता है। उन्होंने कहा कि हम अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रहे हैं, जो एक हर्ष का विषय है। एक बार योग अभ्यास करने से ही शरीर में ताजगी महसूस होती है, अगर इसे नियमित रूप से किया जाए तो निश्चित रूप से व्यक्ति स्वस्थ रहेगा, निरोग रहेगा । उन्होंने कहा कि हमारी केन्द्र की सरकार ने योग के माध्यम से पूरे विश्व को एक सूत्र में पिरोया है तथा योग का व्यापक प्रचार कर इसे जन आंदोलन का रूप दिया है। यह भारत की प्राचीनतम पद्धति है। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि योग एक प्राचीन भारतीय विद्या है, जो बहुत से रोगों और स्वास्थ्य विकारों के उपचार में अत्यंत लाभकारी है। यह शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य और कुशलता के लिए एक समग्र पद्धति है। उन्होंने सामूहिक योग प्रदर्शन के सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया और उनसे नित्य योग करने का आग्रह किया, क्योंकि एक स्वस्थ मन और स्वस्थ तन में ही ईश्वर का वास होता है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से श्रीमती महुआ मजुमदार, राहुल दास, मानिक शर्मा, सुरेन्द्र तिवारी, अनिता शर्मा एवं मनीष शर्मा उपस्थित थे।

Back to top button