रोहिंग्याओं पर बांग्लादेश से बात करेगा BSF

 नई दिल्ली: देश की खुफिया एजेंसी ने एक बड़ी कामयाबी हासिल की है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 28 साल के समीउन रहमान नाम के एक संदिग्ध आतंकी को पकड़ा है। ब्रिटेन के रहने वाले रहमान पर भारत में अल-कायदा के लिए भर्ती करने का आरोप है।

पुलिस का कहना है कि रहमान वैसे तो बांग्लादेश का रहने वाला है। रहमान पर आरोप हैं कि उसने दिल्ली,

मिजोरम और मणिपुर में अपना बेस बना रखा है, जहां से वह रोहिंग्या शराणार्थियों को भड़काता है और भारत और म्यांमार आर्मी के खिलाफ युद्ध के लिए तैयार करता है।

यह भी कहा जा रहा है कि रहमान अल-कायदा के अल-नुसरा फ्रंट के लिए सीरिया के अलेप्पों में भी युद्ध लड़ चुका है।

इसके बाद से भर्ती के लिए बांग्लादेश भेज दिया गया था। पुलिस का कहना है कि वह किसी व्यक्ति को भर्ती करने के लिए उससे मिलने वाला था, तभी पुलिस ने उसे पूर्वी दिल्ली के विकास मार्ग से गिरफ्तार कर लिया।

रहमान इससे पहले बांग्लादेश में भी आतंकी गतिविधियों के लिए फंड मुहैया कराने के आरोप में गिरफ्तार हो चुका है, बाद में उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया था।

पुलिस ने बताया कि इसके बाद नुसरा कमांडर मोहम्मद जोवलानी ने रहमान से सम्पर्क किया और उसे भारत में जाकर रोहिंग्या मुसलमानों की भर्ती करने को कहा।

पुलिस ने बताया कि भर्ती से संबंधित निर्देशों के लिए वह अल-कायदा और अल-नुसरा कमांडर के सम्पर्क में भी रहता था। इसके लिए वह ‘प्रॉटेक्टिव टेक्स्ट’ नाम की सुरक्षित मेसेजिंग ऐप का इस्तेमाल करता था।

बताया जा रहा है कि पूछताछ में उसने बताया कि उसने हजारीबाग (झारखंड), बिहार, दिल्ली, कश्मीर, नॉर्थ ईस्ट में 12 रोहिंग्या मुस्लिमों को अपने जाल में फांस चुका था।

Back to top button