छत्तीसगढ़

वेंडर डेवलपमेंट को प्रोत्साहित करने वेंडर मीट का आयोजन

रायपुर : सीआईआई छत्तीसगढ़ ने भारतीय रेलवे के साथ व्यापर और वेंडर डेवलपमेंट को प्रोत्साहित करने के लिए 6 अक्टूबर 2017 को भिलाई में सम्मेलन का आयोजन किया।

सत्र का मुख्य उदेशय रेलवे की नीतियों, प्रक्रियाओं और अनुपालन के अनुरूप भारतीय रेलवे के साथ व्यापार के अवसर छत्तीसगढ़ की इंडस्ट्रीज को प्रदान करने पर केंद्रित था।

छत्तीसगढ़ स्टेट काउंसिल के अध्यक्ष रमेश अग्रवाल ने भारतीय रेलवे के बारे में कहा, रेलवे देश निर्माण में अग्रसर है जो की बुनयादी ढांचे के निर्माण के साथ पुरे भारत से विभिन्न उद्योगों को अपने साथ अपने व्यवसाय को बढ़ने का अवसर प्रदान करता है।
भारतीय रेलवे को सप्लाई चेन में सहायक उद्योग ने गुणवत्ता वाले सामानों और सेवाओं के निर्माण से इस प्रगति में समान रूप से भाग लिया।
सत्र के मुख्य अतिथि श्री सुनील मिश्र, प्रबंध निदेशक छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम (csidc) ने राज्य सरकार की विभिन्न परियोजनाओं के बारे में जानकारी दी और राज्य में पीपीपी मोड पर चल रही परियोजनाएं को बढ़ावा देने पर जोर दिया। सुनील मिश्रा जी ने सीआईआई को ऐसे अवसर प्रदान करने वाले सम्मेलन के आयोजन के लिए धन्यवाद दिया क्योंकि राज्य में अभी बहुत सारे उद्योगिक क्षेत्रो में भारतीय रेल के साथ व्यसाय करने के अवसर हैं।

कार्यक्रम के आयोजन में श्री सुदीता मुखर्जी, अध्यक्ष सीआईआई ईस्टर्न रीजन रेलवे टास्क फोर्स और निदेशक, टिटागढ़ वैगंस लिमिटेड, श्री पीके सिंह, महाप्रबंधक, राइट्स लिमिटेड, श्री यतिश कुमार, निदेशक, अनुसंधान डिजाइन और मानक संगठन, श्री राजेश खाडे, मुख्य सामग्री प्रबंधक, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, श्री सुजीत साहा, उप मुख्य सामग्री प्रबंधक, डीजल लोकोमोटिव वर्क्स, श्री संजय शुक्ला, लघु उद्योग विकास बैंक, श्री प्रफुल्ल लकड़ा, वरिष्ठ प्रबंधक, भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड, श्री धैर्य झाम्ब, निदेशक, भिलाई आयरन एंड स्टील प्रसंस्करण कंपनी (पी) लिमिटेड ने भाग लिया।

सत्र के वक्ताओं ने विस्तृत नीति और भारतीय रेलवे के एक विक्रेता बनने के लिए आवश्यक प्रक्रिया के बारे में चर्चा की। इसके अलावा, उन्होंने विभिन्न उत्पादों के बारे में बात की जिसके लिए विक्रेता खरीद के लिए निविदा तैयार की गई है। उन्होंने सभी तरह से उद्योगों को समर्थन का आश्वासन दिया और भिलाई अवं रायपुर क्षेत्र को रेलवे विकास गतिविधि के बड़े पैमाने पर प्रयास में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया।

मेक इन इंडिया के लिए माननीय प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण की दिशा में एक कदम के रूप में, भारतीय रेल स्थानीय उद्योग द्वारा उत्पादित उत्पादों के 50% की खरीद करेगा। साथ ही, भारतीय रेल डिजिटल इंडिया को प्रोत्साहित करने के लिए प्रोक्योरमेंट प्रोसेस ऑनलाइन बनाने की कोशिश कर रहा है।

सीआईआई छत्तीसगढ़ के वाइस चेयरमैन श्री पंकज सारडा के उद्बोधन के साथ सत्र समाप्त हुआ। इस सम्मेलन में भिलाई, सहायक उद्योग और विभिन्न उद्योग संघों के प्रतिष्ठित उद्योगों से बड़ी संख्या में भागीदारी रही।

Summary
Review Date
Reviewed Item
वेंडर डेवलपमेंट
Author Rating
51star1star1star1star1star

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *