सड़कों के निर्माण में गुणवत्ता से नहीं किया जाएगा किसी प्रकार का समझौता: केशव

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि राज्य में सड़कों के निर्माण में गुणवत्ता से किसी प्रकार समझौता नहीं किया जायेगा। मौर्य ने आज यहां अपने सरकारी आवास सात कालीदास मार्ग पर यूपी स्टेट हाईवे अर्थारिटी (उपशा) के अधिकारियों के साथ हुई समीक्षा बैठक में कहा कि सड़क निर्माण मे आने वाली समस्त बाधाओं को शीर्ष प्राथमिकता से दूर किया जाए।

उन्होंने कहा कि उपशा द्वारा निर्मित एस0एच0-57 सड़क में आये गड्ढों को शीघ्र दूर किया जाए ताकि आवागमन में परेशानी न हो, उन्होंने बताया कि 206 किमी0 लंबे मार्ग में लगभग 60 किमी0 सड़क गड्ढ़ा युक्त है, इसके गड्ढों को दूर करने के लिए 13 करोड़ रुपये अवमुक्त किये जायें। बैठक में उपशा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि पूर्व में पी0पी0पी0 मॉडल पर राज्य में सड़कों का निर्माण होता था लेकिन सड़क निर्माण में आने वाली प्रशासनिक बाधाएं समय से दूर न हो पाने से सड़कों के निर्माण में अनावश्यक विलंब के कारण निर्माण एजेंसियों को ये कार्य लाभकरी नहीं लगा और उन्होंने इस कार्य से किनारा करना शुरु कर दिया, जिसके कारण राज्य सड़कों के मामले में पिछड़ गया।

अवस्थी ने कहा कि अब पी0पी0पी0 मॉडल से सड़क निर्माण के लिए एजेंसियों को प्रोत्साहित किया जाएगा तथा जिला मजिस्ट्रेट, रेवेन्यु तथा फारेस्ट विभाग का सहयोग लेकर सभी प्रकार की बाधाओं को दूर कर शीघ्र सड़क निर्माण कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि बरेली-अल्मोड़ा तथा वाराणसी-शक्तिनगर राज्य राजमार्ग का निर्माण कार्य उपशा द्वारा पूर्ण किया जा चुका है जबकि मुजफ्फरनगर-सहारनपुर वाया देवबन्द मार्ग का निर्माण कार्य प्रगति पर है। पी0पी0पी0 मॉडल से सड़क निर्माण के लिए पुखरांया-घाटमपुर बिन्दकी मार्ग पर सड़क बनाने के लिए छह आवेदन प्राप्त हुए है, जिन्हे मंजूरी के लिए प्रस्ताव कैबिनट के समक्ष रखा जाएगा।

Back to top button