क्राइमछत्तीसगढ़

रायगढ़ : रिटायर्ड एएसआई से 10.22 लाख की ऑनलाइन ठगी का हुआ खुलासा

दिगर प्रांत से दो युवक व एक अपचारी बालक को पकड़ लाई पुलिस की विशेष टीम.....

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

  •  रिटायर्ड एएसआई से 10.22 लाख की ऑनलाइन ठगी का हुआ खुलासा…..
  • जालसाज पीड़ित के बैंक खाते से ऑनलाइन दूसरे खातों में किये थे ट्रांजैक्शन…..
  • ऑनलाइन ठगी के अन्य मामलों में भी पुलिस सफलता के नजदीक…..

पुलिस अधीक्षक रायगढ़  संतोष सिंह पिछले क्राइम मीटिंग में ऑनलाइन ठगी के मामलों की समीक्षा उपरांत आरोपियों की पतासाजी हेतु दिगर प्रांत पुलिस टीम भेजने सभी प्रभारियों को निर्देशित किया गया थ। पुलिस अधीक्षक द्वारा साइबर सेल के आरक्षकों को दिगर टीम रवाना होने वाली सभी टीम में सम्मिलित करने के निर्देश दिए गए।

एसपी संतोष सिंह द्वारा क्राइम मीटिंग में माह सितंबर में रिटायर्ड एएसआई फकीर चंद सिदार निवासी पुसौर से ऑनलाइन ठगी को जल्द सॉल्व करने एडिशनल एसपी अभिषेक वर्मा एवं पुसौर-सरिया थाने की सुपरविजन अधिकारी डीएसपी गरिमा द्विवेदी को निर्देशित किए । वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा ऑनलाइन क्राइम की फाइल का गहन समीक्षा कर साइबर सेल व थाना पुसौर स्टाफ की विशेष टीम गठित कर संदिग्धों के मोबाइल कॉल रिकॉर्ड/ सीडीआर, एनालिसिस पर टीम एग्जैक्ट लोकेशन का पता लगाकर टीम धनबाद, झारखंड रवाना किया गया ।

यह भी पढ़ें :-हथियार और IED के साथ 7 नक्सलियों ने किया सरेंडर, नक्सली हिंसा का रास्ता छोड़ अब मुख्यधारा से जुड़े

स्थानीय पुलिस की मदद से विशेष टीम द्वारा झारखंड से संदेही खिरोधर महतो उर्फ मिथुन पिता महरु महतो उम्र 22 वर्ष, श्रवण कर्मकार पिता झगरू कर्मकार 28 वर्ष एवं अपचारी बालक सभी निवासी ग्राम ठाकुरचक थाना निनियाघट जिला गिरिडीह झारखंड को पूछताछ कर रायगढ़ लेकर आए । संदेहियों से कड़ी पूछताछ पर उन्होंने बताया कि उनके टीम में मुख्य सरगना लक्ष्मण मंडल है जो एटीएम, मोबाइल का उपयोग कर पैसे ऑनलाइन निकालने में माहिर है । इनमें लक्ष्मण ही टीम को लीड करता था।

आरोपी लक्ष्मण मंडल के साथ कार्य करते हुए जान पहचान हुआ है, इनके गांव से कुछ दूरी पर लक्ष्मण का गांव है। लक्ष्मण इनके खातों में डलता है तथा लक्ष्मण के कहने पर यह अपने खाते से रुपए दूसरों के खाते में ट्रांसफर कर देते थे। आरोपियों के अपराध कबूल नामे के बाद तीनों के मोबाइल व तीनों से जुमला ₹26,500 जप्त किया गया है । आरोपियों को थाना पुसौर के अपराध क्रमांक 158/2020 धारा 420,34 आईपीसी में गिरफ्तार कर रिमांड पर भेजा गया है । मुख्य आरोपी लक्ष्मण मंडल फरार है, जिसकी पतासाजी हेतु एक टीम जिगर प्रांत छापेमारी कर रही है ।

रिटायर्ड एएसआई से ठगी का संक्षिप्त विवरण –

दिनांक 06.09.2020 को पुसौर थाने एक पेंशनर (रिटायर्ड एएसआई फकीर चंद सिदार) द्वारा ऑनलाइन बैंक खाते से 6,44,000 रूपये निकाले जाने की रिपोर्ट दर्ज कराया है । वर्ष 2019 में जिला पुलिस बल से सहायक उप निरीक्षक के पद पर सेवानिवृत्त हुये फकीरचंद सिदार पुसौर में परिवार सहित निवासरत है ।

रिटायर्ड ए.एस.आई. ने बताया कि अज्ञात व्यक्ति द्वारा कॉल कर पेंशन के संबंध में पूछताछ किया था । कॉलर द्वारा बातों में घूमाफिरा कर फकीरचंद से उसके ए.टी.एम. कार्ड का नम्बर पूछ लिया जिसके बाद फकीरचंद बैंक जाकर अपना एटीएम कार्ड ब्लॉक कराएं। बैंक खाते में बचत रुपए सही सलामत थे। उसके बाद से ही फकीर चंद अपने बैंक पासबुक से रुपए निकाला करता था, तब किसी ने उसे आधार को खाते में लिंक कराने नहीं बाले थे । दिनांक 27,28-08-20 को बैंक रूपये निकालने गया तो बैंक अधिकारी खाता को आधार से लिंक कराओगे तभी पैसा निकलेगा बोला तो फकीरचंद अपने आधार को खाते से लिंक कराने के लिये बैंक में आवेदन दिया ।

यह भी पढ़ें :-महिला विरूद्ध अपराधों में त्वरित कार्यवाई करने वाले विवेचकों को डीजीपी ने किया पुरस्कृत

दिनांक 31-08-20 को मैसेज के जरिये जानकारी हुआ कि बैंक खाता, आधार से लिंक हो गया तो पासबुक से 50,000 रूपये निकाला था । उसके बाद से इसे किसी प्रकार का कॉल नहीं आया है । दिनांक 05.09.2020 को बैंक रूपये निकालने पहुंचा तो बैंक अधिकारी खाता चेक कर बताया कि दिनांक 2,3-09-20 को 6 लाख 44 हजार रूपये अज्ञात व्यक्ति द्वारा आहरण कर लिया गया है । पीडित द्वारा थाना पुसौर में रिपोर्ट दर्ज कराये जाने के बाद अज्ञात व्यक्ति के विरूद्ध अप.क्र. 158/2020 धारा 420 भादंवि के तहत रिपोर्ट दर्ज किया गया है ।

अपराध दर्ज के बाद दिनांक 10.9.2020 के फकीर चंद सिदार द्वारा उसकी पत्नी के खाता जो जॉइंट अकाउंट है उससे भी ₹3,78,000 का ऑनलाइन ट्रांजैक्शन अज्ञात आरोपियों द्वारा किया गया है । इस प्रकार एसआई फकीरचंद सिदार से कुल ₹10,22,000 की ऑनलाइन ठगी हुई थी। ऑनलाइन ठगी की सफलता में साइबर सेल तथा पुसौर थाना स्टाफ की सराहनीय भूमिका रही है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button