कानपुर देहात में जहरीली शराब पीने से 10 लोगों की मौत…

कानपुर: कानपुर नगर और कानपुर देहात में जहरीली शराब पीने से 10 लोगों की मौत हो गई है। वहीं जहरीली शराब से 2 दिन में अब तक 14 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 33 लोगों की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। कानपुर देहात के पुलिस अधीक्षक रतन कांत पांडेय ने बताया कि जिला मुख्यालय से करीब 25 किलोमीटर दूर मरौली गांव में यह घटना हुई जहां 4 लोगों ने शनिवार रात जहरीली शराब पी थी और रविवार सुबह उनकी मौत हो गई जबकि एक अन्य व्यक्ति की मौत दोपहर बाद हुई।

पांडेय ने बताया कि मृतकों की पहचान श्यामू (40), चुन्ना कुशवाहा, (28), हरी मिश्रा (50) और नागेंद्र सिंह (40) के रूप में हुई है। शराब पीने के बाद इन लोगों को उल्टी होने लगी, आंखों से कम दिखाई देने लगा तथा बेचैनी की शिकायत हुई। 5वें व्यक्ति का नाम पंकज गौतम (40) है जिसकी अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। राजधानी लखनऊ में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद कानपुर देहात में जहरीली शराब पीने की घटना में मृतकों के आश्रितों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा की है। पुलिस ने बताया कि करीब 6 ग्रामीण कानपुर देहात के जिला अस्पताल और कानपुर शहर के हैलट अस्पताल में जिन्दगी और मौत से संघर्ष कर रहे हैं।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस मामले में एक व्यक्ति को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।इस बीच जिलाधिकारी कानपुर देहात राकेश सिंह ने घटना की मजिस्ट्रेट से जांच कराने के आदेश ​दे दिए है। जिस दुकान से यह शराब खरीदी गई थी वहां से शराब के नमूने लेकर परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेज दिए गए हैं। कानपुर देहात जिले में जहरीली शराब की इस घटना से नाराज ग्रामीणों ने माघीपुरवा और भंवरपुर में सडक जाम कर दी। ये लोग शव पोस्टमार्टम के लिए नहीं ले जाने दे रहे थे। उनकी मांग थी कि इस मामले के दोषियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए और मृतकों के परिजनों को मुआवजा दिया जाए। बाद में वरिष्ठ अधिकारियों ने घटनास्थल पर पहुंचकर मामला शांत कराया।

सचेंडी थाना क्षेत्र के अलग-अलग गांवों में कथित जहरीली शराब पीने से 4 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 10 अन्य गंभीर रूप से बीमार हो गए थे। कानपुर के जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि शराब पीने से भोला यादव (30) को रविवार अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उसकी मौत हो गई। पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) प्रद्युम्न सिंह ने बताया था कि यह हादसा शनिवार सुबह हुआ था। राजेन्द्र कुमार (48) और रतनेश शुक्ला (51) अपने-अपने आवास पर मृत पाए गए।

उन्होंने बताया था कि 12 लोगों को तबियत बिगड़ने पर विभिन्न अस्पतालों में ले जाया गया। सेवानिवृत्त सब इंस्पेक्टर जगजीवन राम (62) और उमेश (30) की उपचार के दौरान मौत हो गई। सिंह के अनुसार मृतकों के परिजनों ने पुलिस को बताया कि सभी ने शराब के सरकारी ठेके से शराब लेकर पी थी। डॉक्टरों ने बताया कि जहरीली शराब की वजह से ये मौतें हुई हैं। कानपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार ने बताया कि मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। शराब की दुकान के मालिक श्याम बालक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और प्रशासनिक अधिकारी तथा आबकारी विभाग की टीम मामले की जांच कर रही है।
<>

new jindal advt tree advt
Back to top button