छत्तीसगढ़राजनीति

कवर्धा में टाईगर रिजर्व के विरोध में कांग्रेस की 11 को बड़ी सभा

अकबर का आरोप आदिवासियों का दमन कर रही सरकार

कवर्धा में टाईगर रिजर्व के विरोध में कांग्रेस की 11 को बड़ी सभा

रायपुर : कबीरधाम जिले के भोरमदेव अभ्यारण्य को टाईगर रिर्जव बनाने के निर्णय के विरोध में 11 अप्रैल को कवर्धा में कांग्रेस की बड़ी सभा होगी जिसमें पार्टी के प्रदेश के प्रमुख नेता शामिल होंगे।

टाईगर रिजर्व को लेकर पूर्व मंत्री मोहम्मद अकबर ने आरोप लगाया है कि आदिवासियों का दमन रमन सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि कबीरधाम जिले के भोरमदेव अभ्यारण्य को टाईगर रिजर्व बनाने का निर्णय राज्य वन्य प्राणी बोर्ड की 14 नवंबर 2017 को हुई बैठक में लिया गया है।

प्रस्तावित टाईगर रिजर्व की चर्तुसीमा निर्धारण की प्रक्रिया चल रही है। उक्त टाईगर रिजर्व के कोर क्षेत्र में ग्यारह ग्राम एवं बफर जोन क्षेत्र में 28 गाँव आएगे। प्रस्तावित टाईगर रिजर्व के क्षेत्र में आने वाले ग्रामों के रहवासियों का स्वैच्छिक विस्थापन उनकी सहमति के आधार पर भारत सरकार की विस्थापन नीति के अनुसार किए जाने का प्रावधान है।

इस हेतु भारत सरकार के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा 8 अप्रेल 2016 को अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। प्रारुप अधिसूचना के अनुसार भोरमदेव वन्य जीव अभ्यारण्य छत्तीसगढ़ राज्य के कबीरधाम जिले में अवस्थित है, और यह 351.24 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है।

सहमति पत्र पर रहवासियों से धोखे से हस्ताक्षर करवाए

कबीरधाम जिले के तीन अलग-अलग कार्यकाल में विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले मोहम्मद अकबर ने वहां जाकर उनसे मुलाकत की।

उन्हें ग्रामवासियों ने बताया कि शासकीय अधिकारियों ने कभी कंबल, कभी साड़ी , दरी बांटकर तो कभी गांव में तालाब, सड़क निर्माण आदि की बात कहकर टाईगर रिजर्व की सहमति पत्र उनको बगैर बताए धोखे से हस्ताक्षर, अंगूठे के निषान ले लिए है।

बाद में यह धोखधड़ी उजागर हो जाने से प्रस्तावित टाईगर रिजर्व के ग्रामों के रहवासियों, वनवासियों में अत्यधिक चिंता है। इन ग्रामों के निवासी टाईगर रिजर्व का विरोध कर रहे है।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.