बड़ी खबरराष्ट्रीय

स्कूल में पिटाई आहत होकर 11वीं के छात्र ने की खुदकुशी

बुधवार को धनंजय की टीचर ने उसे हाथ बांधकर पीटा था, इसके बाद प्रिंसिपल-डायरेक्टर ने भी उसकी पैंट उतारकर पिटाई की

नई दिल्ली: 11वीं का छात्र छोटी पैंट पहनकर स्कूल आया तो टीचर और प्रिंसिपल ने उसकी पिटाई कर दी। आहत होकर छात्र ने आत्महत्या कर ली। मामला पंजाब के लुधियाना का है। शुक्रवार अल सुबह करीब तीन बजे अपने घर में फंदा लगाकर खुदकुशी की।

छात्र के पिता के बयान पर पुलिस ने निजी स्कूल की प्रिंसिपल, डायरेक्टर और टीचर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। तीनों आरोपी फरार हैं। छात्र धनंजय (18) के पिता बृज राज तिवारी एक फैक्टरी में काम करते हैं जबकि मां कमलेश तिवारी घर पर ही रहती हैं।

धनंजय का एक छोटा भाई और बहन है। वे मूलरूप से उत्तरप्रदेश के गोंडा जिला के रहने वाले हैं। डाबा के गुरमेल नगर में रहने वाले बृज राज तिवारी का आरोप है कि धनंजय ने कुछ दिन पहले नई पैंट ली थी। उसने यह फैशन के हिसाब से ऊंची ले ली। मगर स्कूल वालों को यह पसंद नहीं था। धनंजय ने टीचरों से कहा था कि पिता को तनख्वाह मिलेगी तो कुछ दिन बाद बदल देगा, लेकिन वे नहीं माने।

उन्होंने कुछ दिन पहले उसे पीटा और बेइज्जत किया। दो दिन पहले उसे टीचर पूनम दोबारा स्कूल प्रिंसिपल सरोज शर्मा के दफ्तर में ले गई। वहां स्कूल के मालिक और डायरेक्टर प्रभु दत्त भी मौजूद थे। तीनों ने धनंजय की टाई से ही उसके हाथ बांधे और पीटा। परिजनों ने उसके कपड़े भी उतारने के आरोप लगाए।

बृज राज तिवारी के मुताबिक पिटाई से आहत होकर धनंजय ने दो दिन पहले ही बोला था कि वह स्कूल नहीं जाएगा। इसका कारण पूछने पर उसने सारी बात बताई। उसने दो दिन तक खाना भी नहीं खाया। गुरुवार रात को उसके पास उसकी मां कमलेश बैठी रही ताकि वह कुछ खा ले। देर रात तक धनंजय सोया नहीं जिस कारण मां भी उसके पास कमरे में ही बैठी रही।

ढाई बजे के करीब काफी मिन्नत करने पर धनंजय को खाना खिलाकर उसकी मां अपने कमरे में नीचे चली गई। लेकिन मां के मन में कुछ खटका। कुछ देर बाद वह बेटे को देखने के लिए दोबारा ऊपर गई, पर कमरा अंदर से बंद था। उसने जोर से दरवाजे को धक्का दिया तो दरवाजा हल्का सा खुला। अंदर धनंजय को फंदे पर लटका देख उसने शोर मचा दिया। इसके बाद आनन फानन में उसे अस्पताल पहुंचाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

खुदकुशी के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज किया
एडीसीपी-2 जसकिरणजीत सिंह तेजा ने बताया कि स्कूल की प्रिंसिपल सरोज शर्मा, टीचर पूनम और प्रभु दत्त पर आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज कर लिया गया है। प्रभु दत्त और सरोज शर्मा पति-पत्नी हैं। सभी आरोपी फरार हैं।

प्रिसिंपल-डायरेक्टर ने पैंट उतारकर पीटा
धनंजय का परिवार उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले का रहने वाला है। पिता बृजराम तिवारी (40) ने बताया कि धनंजय पहले प्राइवेट स्कूल में पढ़ता था, 10वीं में 93% आए थे। उसके बाद 11वीं में उसने ढंढारी स्थित एसजीडी सीनियर सेकंडरी स्कूल में दाखिला लिया था। टीचर पूनम उसे हेयर स्टाइल और छोटी पैंट पर बेल्ट से पीटती थी। पूनम ने धनंजय की मां को स्कूल बुलाया और उसके सामने भी पिटाई की। जब मां ने विरोध किया तो उसे धक्के देकर निकाल दिया।

बृजराम ने आगे यह भी बताया कि इसके बाद हमने स्कूल से ही नई पैंट ले ली, लेकिन वो भी छोटी निकली। बुधवार को उसी टीचर ने फिर उसके हाथ बांधकर पीटा और उसे प्रिंसिपल सरोज शर्मा और डायरेक्टर प्रभुदत्त के पास ले गई। प्रिंसिपल और डायरेक्टर ने उसकी पैंट उतार दी और सबके सामने दोबारा पीटा। धनंजय इसे बर्दाश्त नहीं कर पाया। गुरुवार को वह स्कूल नहीं गया और बिना खाए-पिए बैठा रहा। देर रात उसने मां से कहा कि वह पढ़ने के बाद छत के नीचे आ जाएगा। जब वह नीचे नहीं आया तो तड़के करीब 3 बजे पत्नी छत पर गई तो बेटा फंदे से लटका था और तड़प रहा था।

Tags
Back to top button