क्राइमदिल्ली

सीरियल क्राइम पेट्रोल देखकर दिल्ली में 11वीं के छात्र की हत्या

सीरियल क्राइम पेट्रोल देखकर दिल्ली में 11वीं के छात्र की हत्या

नई दिल्‍ली: राजधानी दिल्ली में ग्याहरवीं क्लास के एक छात्र के क़त्ल का मामला सामने आया है. दरअसल दिल्ली के महरौली इलाके में रहने वाला जतिन गोयल शनिवार की शाम को शनि धाम मंदिर जाने के लिए घर से निकला था. लेकिन जब जतिन रात तक घर नहीं लौटा तो घरवालों ने उसके फ़ोन पर फ़ोन किया. पहले तो फ़ोन कट गया, लेकिन उसके बाद तभी उसी के फ़ोन से एक फ़ोन आया. ये फ़ोन किडनैपर ने किया था.

किडनैपर ने जतिन को रिहा करने के एवज में 20 लाख रुपये की मांग की. परिवार अचानक से सदमे में आ गया, तुरंत पुलिस को इस किडनैपिंग की जानकारी दी गई. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की. पुलिस ने पहले जिस नंबर से फ़ोन आया था उसकी लोकेशन ट्रेस की, लोकेशन ट्रेस करते समय पुलिस को जतिन की स्कूटी बरामद हो गई.

स्कूटी मिलने के बाद पुलिस ने उस पूरे इलाके की सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जिसमें पुलिस को एक बुलेट पर 3 लड़के नज़र आये, जिन्होंने नकाब पहना हुआ था. यहीं से पुलिस को सुराग मिला. अब पुलिस को तलाश थी इस बुलेट की. जतिन के दोस्तों को सीसीटीवी फुटेज दिखाकर ये भी पता चल गया कि आखिरकार बुलेट किसकी है. बुलेट आकाश नाम के एक शख्स की थी. पुलिस ने आकाश को गिरफ्तार कर लिया और उससे पूछताछ में जो कहानी सामने आई उसने सब को हिला कर रख दिया.

आकाश ने पुलिस को बताया कि ये पूरी साजिश नवीन ने की थी, जिसमें इन्होंने एक नाबालिग को साथ में मिलाया था. पुलिस ने आकाश की निशानदेही पर नवीन को गिरफ्तार कर लिया. इतना ही नहीं, पुलिस को जांच के दौरान ये पता चला था कि बुलेट पर ‘जाट’ लिखा था.

आकाश ने जाट वाले स्टिकर को हटा दिया था, जो कि पकड़े जाने के बाद उसकी जेब से बरामद हो गया. जब पुलिस ने नवीन से पूछताछ की तो उसने बताया कि वो भी पहले उसी स्कूल में पढ़ता था जिसमें जतिन पढ़ता है. इसी स्कूल में नवीन की एक दोस्त भी पढ़ती है. उसने नवीन को बताया कि जतिन कई दिनों से उससे बात करने की कोशिश कर रहा है. बस इसी बात पर नवीन ने जतिन को सबक सिखाने की ठान ली.

Summary
Review Date
Reviewed Item
सीरियल क्राइम पेट्रोल
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.