नोटबंदी में फर्जी कंपनियों से सफेद हुआ कालाधन, पकड़ में आईं हजारों कंपनियां

नोटबंदी के दौरान फर्जी कंपनियों के जरिए बड़े पैमाने पर कालेधन को सफेद करने के खेल का खुलासा हुआ है। 13 बैंकों ने केंद्र सरकार को फर्जी कंपनियों के बारे में जानकारी मुहैया कराई है जिन्होंने नोटबंदी के वक्त में कालेधन को सफेद किया था।

सरकार को दी गई जानकारी के मुताबिक इन फर्जी कंपनियों में से कुछ के 100 से ज्यादा खाते हैं। इन कंपनियों ने नोटबंदी के बाद खातों में करोड़ों रुपया जमा किया। फिलहाल ऐसी 5800 से ज्यादा कंपनियों के आंकड़े सामने आए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक कंपनी के 2134 खातों की भी जानकारी मिली है।

बता दें कि कालेधन के खिलाफ चलाई जा रही सरकार की मुहिम में 2 लाख से ज्यादा कंपनियों के रजिस्ट्रेशन रद्द किए गए। नोटबंदी से पहले इन फर्जी कंपनियों के खातों में जहां मामूली रकम जमा थी वहीं नोटबंदी के बाद इनमें अचानक करोड़ों रुपये जमा कर दिए गए।

नोटबंदी से पहले इन सभी कंपनियों के खातों में 22 करोड़ रुपया मौजूद था जो कि नोटबंदी के बाद 4573 करोड़ रुपये हो गया। इस साल की शुरुआत में 209032 कंपनियां रजिस्टर की गईं। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने पहले ही कहा था कि वो फर्जी कंपनियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे।

जेटली ने अगस्त में लोकसभा में कहा कि फर्जी कंपनियों की पहचान नहीं की जा सकी है। वित्तमंत्री ने ये भी कहा था कि इनकी पहचान होने के बाद इन कंपनियों के खिलाफ बेनामी और इन्कम टैक्स कानूनों के तहत कार्रवाई की जाएगी।

1
Back to top button