13 सिंचाई योजनाओं को मिली बृजमोहन की स्वीकृति

लगभग 30 करोड़ की लागत से होंगे निर्माण कार्य

रायपुर : प्रदेश में सिंचाई का रकबा बढ़ाने के लिए शिद्दत के काम कर रहे प्रदेश के कृषि एवं जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने सिंचाई सुविधाओं के विस्तार हेतु प्रदेश में लगभग 30 करोड़ लागत की 13 नई योजनाओं को प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की है।

इन योजनाओं के पूर्ण होने से क्षेत्र के किसानों को लाभ होगा। इन योजनाओं में राजनांदगांव जिले की बरनाला व्यापर्तन पोषक नहर निर्माण लागत 2 करोड़ 78 लाख 86 हजार रुपए,चिद्दों एनीकेट योजना लागत 1 करोड़ 24 लाख 71 हज़ार रुपये, टेका व्यापर्तन योजना की नहर-नाली मरम्मत कार्य 1 करोड़ 11 लाख 56 हज़ार रुपये।

बेमेतरा जिले की गब्दी व्यापर्तन योजना के दोयी तट नहर की रिमॉडलिंग, लाइनिंग एवं 1 एक्वाडक्ट का निर्माण लागत 2 करोड़ 98 लाख 78 हज़ार रुपये,हाथीडोब जलाशय योजना के शीर्ष एवं नहर में मिट्टी कार्य,पक्के कार्य का निर्माण लागत 2 करोड़ 22 लाख 97 हज़ार रुपये,सोढ नाला डायवर्सन नहर का रिमाडलिंग एवं लाइनिंग कार्य लागत 2 करोड़ 3 लाख 35 हज़ार रुपये, रायपुर जिले की पचेड़ा व्यापर्तन योजना का जिर्णोद्धार कार्य लागत 2 करोड़ 14 लाख रुपये,मुनरेठी तटबंध निर्माण योजना लागत 2 करोड़ 92 लाख रुपये,चम्पारण स्टाप डैम निर्माण कार्य 2 करोड़ 94 लाख रुपये, परसदा स्टाप डैम योजना का जीर्णोद्धार कार्य लागत 36 लाख रुपये, धनेली स्टाप डैम निर्माण लागत 2 करोड़ 99 लाख रुपये।

मुंगेली जिले की आगर नदी पर निर्मित बरदा एनीकट के डुबान से प्रभावित ग्राम बैजना-पथरिया मार्ग पर पल निर्माण कार्य लागत 2 करोड़ 56 लाख 43 हज़ार रुपये, कांकेर जिले की डोकला , मैनखेड़ा तालाब जिर्णोद्धार, नहर लाइनिंग व जिर्णोद्धार कार्य लागत 2 करोड़ 99 लाख रुपये है।
इस संबंध में सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि किसानों की सुविधाओं को देखते हुए इन योजनाओं को स्वीकृति प्रदान की गई है। सिंचाई का रकबा बढ़ने से निश्चित ही उत्पादन में वृद्धि होगी और किसान भी खुशहाल होगा।

advt
Back to top button