नक्सल प्रभावित इलाकों में बनी 1320 किलोमीटर सड़क

रायपुर : प्रदेश के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विगत छह वर्षों में आरआरपी-1 योजना के तहत 1320 किलोमीटर लम्बी सड़कों का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है। इन सड़कों का निर्माण 2011 से 2017 के बीच अलग-अलग समय में पूर्ण किया गया है। यह जानकारी सोमवार को मंत्रालय महानदी भवन में मुख्य सचिव विवेक ढांड की अध्यक्षता में हुई बैठक में दी गई।

मुख्य सचिव विवेक ढांड ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में स्वीकृत सड़क निर्माण कार्यों को समय पर पूरी गुणवत्ता के साथ पूर्ण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों में आवश्यकता पडऩे पर पुलिस बल का भी सहयोग लिया जाए। मुख्य सचिव ने बैठक में संबंधित निर्माण ऐजेंसियों को निर्देशित किया कि निर्माण कार्यों में किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं हो इसका ध्यान रखें। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण को पूरी प्राथमिकता दी जाए।

विवेक ढांड ने बैठक में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संभाग के सभी सात जिलों के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से सड़क निर्माण कार्यों की प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने ने सड़क निर्माण पूरी गुणवत्ता के साथ समय पर पूर्ण कराने और निर्माण कार्यों की प्रगति की नियमित रूप से समीक्षा करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऐसी सड़कें जिनमें पैच वर्क का कार्य होना है। उन कार्यों को भी पूरी तत्परता के साथ पूर्ण कराया जाए। सचिव लोक निर्माण सुबोध सिंह ने इन क्षेत्रों के लिए स्वीकृत, निर्माणाधीन और पूर्ण हो चुके कार्यो की विस्तार से जानकारी दी।

पुलिस महानिदेशक (नक्सल) डी.एम. अवस्थी ने कहा कि नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण के लिए आवश्यकतानुसार पुलिस बल की व्यवस्था की जा रही है। बैठक में गृह विभाग के प्रमुख सचिव बी.व्ही.आर. सुब्रमण्यम, सचिव अरूण देव गौतम, पुलिस महानिदेशक ए.एन. उपाध्याय, बस्तर संभाग के कमिश्नर दिलीप वासनिकर सहित लोक निर्माण विभाग और वन विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button