राजनीतिराष्ट्रीय

आईएएस के 14 अधिकारियों का तबादला, राजस्थान सरकार ने लिया फैसला

राजस्थान सरकार के कार्मिक विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए

जयपुर: राजस्थान सरकार ने ब्यूरोक्रेसी बड़ा बदलाव करते हुए भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के 14 अधिकारियों को इधर से उधर कर दिया है. राजस्थान सरकार के कार्मिक विभाग ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं.

ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजेश्वर सिंह का तबादला जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पद पर किया गया है. वहीं, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पद पर अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह, रक्षा जेल एवं अन्वेषण ब्यूरो रोहित कुमार का तबादला किया गया है.

शासन के प्रमुख सचिव आयोजना, आयोजना (जनशक्ति और गजेटियर्स), सांख्यिकी, सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग, सूचना एवं जनसंचार विभाग अभय कुमार को गृह विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है. ऊर्जा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अजिताभ शर्मा को प्रमुख शासन सचिव सूचना प्रौद्योगिकीएवं संचार विभाग का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है.

पंचायतीराज विभाग के सचिव सिद्धार्थ महाजन को आयोजना, आयोजना (जनशक्ति और गजेटियर्स) , सांख्यिकी विभाग का अतिरिक्त दिया गया है. इसी तरह 11 प्रशिक्षु सहायक कलक्टर का भी उपखंड के मजिस्ट्रेट पद पर तबादला किया गया है.

कोटा के प्रशिक्षु सहायक कलक्टर अतुल प्रकाश को बांसवाड़ा के गढ़ी, बीकानेर से अभिषेक सुराना को जयपुर के चौमू, पाली से देशल दान को कोटा के रामगंज मंडी, शिल्पा सिंह को जयपुर से भीलवाड़ा के शाहपुरा और राम प्रकाश को बांसवाड़ा से झालावाड़ के भवानीमंडी का उपखंड मजिस्ट्रेट पद पर ट्रांसफर किया गया है.

मुहम्मद जुनैद पीपी को श्रीगंगानगर से झालावाड़, मयंक मनीष को जोधपुर से उदयपुर के वल्लभनगर, नित्या के को अजमेर से टोंक, अभिषेक खन्ना को अलवर से चुरू, उत्साह चौधरी को जयपुर से भीलवाड़ा के मांडलगढ़ और अर्पणा गुप्ता का तबादला जोधपुर के प्रशिक्षु सहायक कलक्टर से उदयपुर के बड़गांव उपखंड मजिस्ट्रेट के पद पर किया गया है.

कई अधिकारी प्रतीक्षा सूची में

कार्मिक विभाग ने कई अधिकारियों को प्रतीक्षा सूची में भी डाल दिया है. इनमें अनिल कुमार, त्रिलोक चन्द मीणा, मनीषा तिवारी, सुनील शर्मा, रतन लाल योगी शामिल हैं. जब्बर सिंह, हिम्मत सिंह, शैलेष सुराणा और चिमन लाल को आगामी आदेश तक प्रतीक्षा सूची में रखा गया है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button