छत्तीसगढ़

बांगो बांध के तीन गेटो से छोड़ जा रहा 14 हजार क्यूसेक पानी,निचले इलाको पर प्रशासन की पैनी नजर

कुछ देर पहले गेट नंबर 5 और गेट नंबर 7 भी खोला गया,

अरविंद शर्मा क्लिपर 28

बांगो/कटघोरा : बांगो बांध के दो और गेट अभी खोले गए, अब तीन गेटों से पानी छोड़ जा रहा है। अभी कुछ देर पहले गेट नंबर 5 और गेट नंबर 7 भी खोला गया, सुबह गेट नंबर 6 भी खोला गया था, तीनो गेटों से लगभग साढ़े 14 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है. बिजली संयत्र के लिए 9 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है.

बांगो बांध से अब लगभग साढ़े 23 हजार क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज किया गया है . निचले इलाको पर प्रशासन ने पैनी नजर रखी हुई है. जल भराव की संभावना वाले इलाको में प्रशासन के कर्मचारी मुस्तैद कर दिए गए है . इसके लिए जिले के कलेक्टर ने पहले से ही अलर्ट जारी कर दिया गया था. इसकी वजह से नदी किनारे की 41 बस्तियों में मुनादी कराकर लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने कहा गया है।

प्रशासन ने किया गांव वालों को सतर्क

प्रशासन की ओर से बताया गया है कि हसदेव बराज से पानी छोड़े जाने की स्थिति में कोरबा जिले के बांगो,लेपरा,नुनिया कछार,कोनकोना, पौडी उपरोड़ा,चर्रा,पाराघाट,छिनमेर,सिरकी कला, केरा,पाथा,सिलियारीपारा, तिलसाभाटा, हथमल, छिर्रापारा, डुग्गुपारा, जूनापारा, लोरीडांड, टुंगमुंडा, तिलाईडांड, नवागांव, झोरा, कोरी घाट, पोडीखड़ा, डोंगाघाट, धनगांव लोटलोटा, नर्मदा और कछार, झाबू, सोनगुडा, नवागांव, स्याही मुंडा, जेलगांव, चारपारा, खेलरभावना, बलरामपुर, भलप्रहरी, जोगीपाली, कोहडिया, राताखार, ईमलीडुग्गू, कुदुरमाल, बरीडीह, मोहरा, देवरी, चीचोली, कटबितला, झीका, ढिटोली और बिचोली में हसदेव का पानी घुस सकता है।

बांगो बांध के तीन गेटो से छोड़ जा रहा 14 हजार क्यूसेक पानी,निचले इलाको पर प्रशासन की पैनी नजर

जांजगीर-चांपा जिले के 2 गांव चांपा और देवरी भी संभावित गांव में शामिल है| बराज के नीचे और किनारे के सभी गांव में चल अचल संपत्ति को सुरक्षित स्थानों पर हटा लेने की सूचना जारी की गई है| बाढ़ प्रभावित गांव में स्थापित खनिज, खनिज ठेकेदार उद्योगिक इकाइयों और संस्थाओं को भी अपनी सभी परिसंपत्तियों को बाढ़ क्षेत्र से बाहर सुरक्षित स्थान पर हटा लेने की सूचना जारी कर दी गई है जिला प्रशासन ने स्थानीय ग्रामीण और मछुआरों से भी अपील की है कि वह पानी छोड़े जाने की स्थिति में नदी में ना जाए ।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button