14 वर्षीय नाबालिग से पिस्टल की नोक पर रेप, दो आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

नाबालिग ने सदमे में आकर सोमवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी

धौलपुर: राजस्थान के धौलपुर जिले के बसेड़ी थाना इलाके के एक गांव में देर रात करीब 12-1 बजे के बीच में दो लोग एक युवती के कमरे में घुस गए. दोनों ने नाबालिग को जगाकर अवैध पिस्टल की नोक पर बारी-बारी से दुष्कर्म किया.

कमरे से चीखने-चिल्लाने की आवाज आने लगी. इस दौरान परिवार के अन्य सदस्य भी आवाज सुनकर जाग गए. जब उन्होंने कमरे का दरवाजा खोला तो दोनों आरोपी हथियार सहित निकलते हुए दिखाई दिए.

दोनों आरोपी परिजनों को देख भागने लगे. इस दौरान परिजनों ने दौड़कर एक आरोपी को दबोच लिया. वहीं, दूसरा आरोपी अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गया. परिजनों को नाबालिग कमरे में काफी नाजुक स्थिति में मिली थी. नाबालिग ने परिजनों को बताया कि दोनों आरोपियों ने उसके साथ हैवानियत को अंजाम दिया है.

हाथ-पैर बांधकर जमकर मारपीट

परिजनों ने एक आरोपी बंटी को पकड़कर हाथ-पैर बांधकर जमकर मारपीट कर दी और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया. परिजनों ने आरोपी बंटी के दोनों पैर बांधकर उल्टा लटका कर पेड़ से बांध दिया. उसके बाद आरोपी के साथ परिजनों और ग्रामीणों ने जमकर मारपीट की. वारदात के बाद 14 वर्षीय नाबालिग ने सदमे में आकर पंखे से फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली.

वारदात से पूरे जिले में सनसनी फैल गई. हालांकि, एक आरोपी को परिजनों ने पकड़कर पुलिस को सुपुर्द किया था. पुलिस उप अधीक्षक प्रवेंद्र ने बताया कि सोमवार को ही दोनों आरोपियों के खिलाफ 376 डी, 306 आईपीसी और 3,4 पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज किया था. पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ शुरू कर दी है. उधर जिले की वारदात पूरे प्रदेश में सुर्खियों में हैं.

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार पर तीखे प्रहार किए हैं. उन्होंने ट्विटर के माध्यम से कहा कि प्रदेश में गैंगरेप, दुष्कर्म, बलात्कार, आत्महत्या, बजरी माफियाओं के दुस्साहस, लूट, मिलावट, सट्टा, झांसा, नकबजनी, चोरी जैसी घटनाएं आम हो गई हैं. अशोक गहलोत के नेतृत्व में अपराधियों ने कोरोना

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button