जिले की 145 बस्तियां जुड़ेंगी सड़कों से, CM ने जताई ख़ुशी

एम्पावर्ड कमिटी ने बैठक में दी सहमति, संयुक्त सचिव अमित सहाय ने ली बैठक

<p>राजनांदगांव : जिले में 100 से 249 की आबादी वाले 145 बस्तियों में सड़क निर्माण की राह आसान हो गई है। केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय की एम्पावर्ड कमिटी ने बैठक में सहमति दे दी है। इस महीन के अंत तक इन सड़कों को जोड़ने की स्वीकृति मिल जाने की संभावना हैं। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने लोक सुराज अभियान में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना की समीक्षा के दौरान इस पर खुशी जताई।</p>

<p>उन्होंने कहा कि पीएमजीएसवाय सड़के बनने से इन बस्तियों में विकास को नई दिशा मिलेगी। उल्लेखनीय है कि केंद्र शासन को इस संबंध में प्रस्ताव भेजा गया था। बीते दिनों जब केंद्रीय संयुक्त सचिव अमित सहाय ने जिले में समीक्षा बैठक ली तब कलेक्टर भीम सिंह ने 100 से 249 की आबादी वाले बस्तियों में पीएमजीएसवाय सड़कों के संबंध में ध्यानाकर्षण किया था। उन्होंने बताया कि इन सड़कों के बन जाने से इन बस्तियों में शिक्षा और स्वास्थ्य संबंधी सूचकांक भी बेहतर करने में मदद मिलेगी और बड़ी आबादी के विकास का रास्ता खुल जाएगा।</p>

<p>इस दौरान सहाय ने समीक्षा बैठक से उभरे सभी महत्वपूर्ण बिन्दुओं में इसे भी एजेंडे में सम्मिलित करते हुए ग्रामीण विकास मंत्रालय के अधिकारियों से इस संबंध में चर्चा की। इसके पश्चात केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय की एम्पावर्ड कमिटी में यह प्रस्ताव रखा गया और इस पर सहमति बन गई। एलडब्ल्यूई के अंतर्गत बनने वाली इन सड़कों की कुल लंबाई 428.66 किमी होगी। इनकी लागत राशि 232 करोड़ रुपए होगी।</p>

<p>पीएमजीएसवाय के कार्यपालन अभियंता बलवंत पटेल ने बताया कि इसके अलावा 126 पीएमजीएसवाय सड़कों के नवीनीकरण एवं 121 सड़कों के वार्षिक मरम्मत हेतु निविदा प्रक्रियाधीन है। नवीनीकृत होने वाली सड़कें जिले के सभी ब्लाकों में हैं। इनकी कुल लंबाई 463 किमी है और नवीनीकरण के लिए 92 करोड़ रुपए की राशि रखी गई है। इसी प्रकार पेंच वर्क/वार्षिक मरम्मत होने वाली सड़कों की कुल लंबाई 276.15 किमी है और इसकी लागत 5 करोड़ 78 लाख रुपए होगी।</>

advt
Back to top button