17 विश्व कप: इंग्लैंड फाइनल में प्रवेश किया

रियान ब्रेवस्टर की लगातार दूसरी हैट्रिक की बदौलत इंग्लैंड ने तीन बार के पूर्व चैंपियन ब्राजील को विवेकानंद युवा भारती क्रीड़ांगन में बुधवार को 3-1 से धोकर पहली बार फीफा अंडर-17 विश्व कप फुटबॉल टूर्नामेंट के फाइनल में प्रवेश कर लिया. इंग्लैंड ने खिताब के प्रबल दावेदार और दर्शकों के चहेते ब्राजील की सशक्त टीम को पूरे मैच में कोई मौका नहीं दिया.

इंग्लैंड ने टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन सेमीफाइनल में भी बरकरार रखा और खिताब के प्रबल दावेदार माने जा रहे ब्राजील का मानमर्दन कर दिया. इंग्लैंड के लिए अमेरिका के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में 4-1 की शानदार जीत में बेहतरीन हैट्रिक जमाने वाले ब्रेवस्टर ने एक बार फिर अपना कमाल दिखाया और ब्राजील के खिलाफ भी हैट्रिक ठोक दी.

ब्रेवस्टर ने 10वें, 39वें और 77वें मिनट में गोल किए. ब्रेवस्टर के टूर्नामेंट में अब सात गोल हो चुके हैं और इसके साथ ही गोल्डन शू के प्रबल दावेदार बन गए हैं. ब्राजील का एकमात्र गोल वेस्ली ने 21वें मिनट में किया. इंग्लैंड का फाइनल में स्पेन और माली के बीच दूसरे सेमीफाइनल के विजेता से 28 अक्टूबर को इसी मैदान पर मुकाबला होगा. ब्राजील को अब तीसरे स्थान का मैच खेलना होगा.

यह मैच पहले गुवाहाटी में होना था, लेकिन अंतिम क्षणों में कोलकाता को इसकी मेजबानी सौंपी गयी इसके बावजूद यहां 63881 दर्शक पहुंचे थे. दर्शकों का ब्राजील को भरपूर समर्थन मिल रहा था, लेकिन इंग्लैंड की टीम और उसके चंद समर्थकों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा क्योंकि उनकी टीम ने बेहतरीन खेल दिखाया. इंग्लैंड के मिडफील्डर एमिली स्मिथ रोव भी अपनी टीम का हौसला बढ़ाने के लिए यहां उपस्थित थे.

दर्शकों का अपार समर्थन भी ब्राजीली खिलाड़ियों से उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं करवा पाया. लिवरपूल के स्ट्राइकर ब्रेवस्टर ने कैलम हडसन ओडोइ के क्रास पर रिबाउंड पर गोल करके इंग्लैंड को दसवें मिनट में बढ़त दिला दी थी. ब्राजील ने हालांकि वेस्ले के गोल से बराबरी करके मैच को रोमांचक मोड़ दे दिया. इंग्लैंड के गोलकीपर कुर्टिस एंडरसन ने पालिन्हो का ताकतवर शॉट तो रोक दिया, लेकिन वेस्ले के शॉट का उनके पास कोई जवाब नहीं था.

जब मैच रोमांचक बन रहा था तभी ब्रेवस्टर ने स्टीव सेसेगनन के क्रास पर गोल करके इंग्लैंड को फिर से बढ़त दिला दी. यह उनका छठा गोल था जिससे वह टूर्नामेंट में सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी भी बन गए, इससे यूरोपीय टीम ने मध्यांतर तक 201 से बढ़त बना रखी थी.

ब्राजील के समर्थकों को हालांकि उम्मीद थी कि जिस तरह से जर्मनी के खिलाफ दक्षिण अमेरिकी टीम ने दूसरे हाफ में वापसी करके दो गोल दागे थे, वह यहां भी इसी तरह का चमत्कार दिखाएगी।.इंग्लैंड ने हालांकि जर्मनी जैसी गलती नहीं की और अपनी पूरी ताकत गोल बचाने में लगा दी. ब्राजील की बराबरी की गोल दागने की बेताबी आखिर में उसे महंगी पड़ी क्योंकि इससे उसका रक्षण कमजोर हो गया. ब्रेवस्टर ने इसका फायदा उठाकर स्थानापन्न एमिले स्मिथ रोव के नीचे रहते क्रास पर अपना तीसरा गोल दाग दिया.

1
Back to top button