छत्तीसगढ़

1993 बैच के एस. ई.रेलवे इंग्लिश मध्यम मिक्स्ड हायर सेकेंडरी स्कूल के क्लास मेट्स विदा लिए

किशोर कुमार के इस सुपरहिट गाने को गाते हुए 1993 बैच के एस. ई.रेलवे इंग्लिश मध्यम मिक्स्ड हायर सेकेंडरी स्कूल के क्लास मेट्स विदा लिए

1993 बैच के एस. ई.रेलवे इंग्लिश मध्यम मिक्स्ड हायर सेकेंडरी स्कूल के क्लास मेट्स विदा लिए

किशोर कुमार के इस सुपरहिट गाने को गाते हुए 1993 बैच के एस. ई.रेलवे इंग्लिश मध्यम मिक्स्ड हायर सेकेंडरी स्कूल के क्लास मेट्स विदा लिए। मौका था 17 दिसंबर 2017 को बिलासपुर स्थित होटल ईस्टपार्क में रेलवे इंग्लिश मध्यम स्कूल के विद्यार्थियों का रीयूनियन का, जिसमे सभी विद्यार्थी सुमन एक्का भोपाल, अनंत दिग्रसकर केन्या, कुमार गिरी दुबई, सतीश केशवान सिंगापुर, मेरी एन चेन्नई, शैलजा रेड्डी गाज़ियाबाद, सरोजा

विशाखापट्नम, सोमिया रॉय पुणे, डेनिस जोसेफ भोपाल से केवल इस रीयूनियन हेतु, अपने क्लास मेट्स से मिलने हेतु, स्कूलों के दिनों के याद ताजा करने हेतु और अपने बीच आजीवन संबंध बना रहे इस हेतु प्रत्येक अपने खुद के बिलासपुर शहर में परिवार सहित एकत्रित हुए।

सभी 1993 बैच के विद्यार्थियों ने रेलवे इंग्लिश मध्यम स्कूल गए और सर्व प्रथम सभी ने असेंबली में राष्ट्र गान गए और क्लास रूम में जाकर बैठे। इस उपलक्ष्य पर टीचर का रोल नंदिता चटर्जी, आराधना सिन्हा और सुशीला ने निभाया साथ ही प्रश्नों का सही उत्तर नहीं देने के कारण सुशील वर्मा, बलाकिरण, भूपेंद्र यादव, काजल सिकदर, काजल चटर्जी, राजेश्वरी, रजनी और बप्पा को डांट के साथ साथ 23 का पहाड़ा याद करने की सजा मिली।

इसके बाद सभी स्कूल के खेल मैदान में गए और इस ग्रुप के तेज धावक राजेन्द्र सिंह, लांग जम्प चैंपियन सतीश केशवान, हरीश, गोल स्कोरर सुदीप्तो मुखर्जी, वॉली बॉल प्लेयर बप्पा चटर्जी ने स्कूल के मैदान को प्रणाम किये और 26-27 वर्ष पूर्व अपने स्कूल के खेल के जीवन को याद करते हुए रो पड़े। प्रत्येक के आंखों में एक खुशी के आंसू थे कि सभी 24 वर्षों बाद बिलासपुर में एक हुए और जाते जाते यह गीत गाये – ” चलते चलते मेरे ये गीत याद रखना, कभी अलविदा न कहना, कभी अलविदा न कहना।

Tags
Back to top button