छत्तीसगढ़

17 दिसंबर को पूरे होंगे भूपेश सरकार के 2 साल, प्रदेश में दीवाली की तरह उत्साह का माहौल : कैबिनेट मंत्री

बता दें कि आगामी 17 दिसंबर को भूपेश सरकार के दो साल पूरे हो जाएंगे।

रायपुर। 17 दिसंबर को भूपेश सरकार के 2 साल पूरे होंगे । इसको लेकर कैबिनेट मंत्री रविंद्र चौबे का बयान सामने आया है।

कैबिनेट मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया कि प्रदेश में दीवाली की तरह उत्साह का माहौल है। सरकार के 2 साल के कामों को जनता तक पहुंचाएंगे। हमारी सरकार ने जन घोषणा वादों को पूरा किया है।

बता दें कि आगामी 17 दिसंबर को भूपेश सरकार के दो साल पूरे हो जाएंगे। इस खास मौके को यादगार बनाने के लिए सरकार चंदखुरी कौशल्या माता मंदिर में उत्सव मनाने की तैयारी कर रही है। जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत पूरा मंत्रिमंडल उत्सव में शामिल हो सकता है। इसे लेकर सीएम हाउस में 8 दिसंबर को रणनीति बनेगी।

इसके साथ ही सरकार राज्य के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहर राम वन गमन परिपथ में 14 दिसम्बर से 17 दिसम्बर तक पर्यटन रथ तथा बाइक रैली का आयोजन कर रही है। यह रथ और रैली राज्य के उत्तर स्थित.सीतामढ़ी हरचैका जिला कोरिया तथा दक्षिण में स्थित.रामराम जिला सुकमा दोनों छोर से 14 दिसंबर को प्रारंभ होगी जो विभिन्न गतंव्य स्थलों से होते हुए 17 दिसंबर को चंदखुरी में सामाप्त होगी।

यह रैली चिन्हांकित पर्यटन स्थलों से एकत्र की गई मिट्टी और प्रतीक चिन्ह को साथ लेकर चंदखुरी में 17 दिसम्बर को दोपहर 1:30 बजे पहुंचेगी जहां भव्य कार्यक्रम के आयोजन के साथ इस मिट्टी से चंदखुरी में वृक्षारोपण किया जाएगा तथा यात्रा उपरांत प्रतीक चिन्ह को मुख्य अतिथि को सौंपा जाएगा।

राज्य में 14 दिसम्बर को सीतामढ़ी हरचैका जिला कोरिया तथा रामाराम जिला सुकमा के दोनों छोरों से शुरू होने पर्यटन रथ और बाfक रैली में रामायण पुस्तक, प्रतीक चिन्ह लेकर पर्यटन रथ न्यूनतम 30 बाइक के साथ होर्डिंग्स और वाहन साउण्ड सिस्टम सहित रैली निकाली जाएगी। जिसमें भगवान श्रीराम के अध्यात्मिक भजन तथा चैपाइयां चलाई जाएगी। जिला प्रशासन द्वारा स्थानीय विधायकों तथा स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ सीतामढ़ी हरचैका और रामाराम से झण्डा दिखाकर रथयात्रा की रवानगी की जाएगी। प्रतीक चिन्ह ;मशाल, रामायण पुस्तक, ध्वज,को संबंधित जिला बाइकिंग समूहों को पूर्ववर्ती जिला बाइकिंग समूह को जिला प्रशासन के नेतृत्व में सौंपा जाएगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button