20 कैदियों की एक साथ बिगड़ी तबीयत, पेट दर्द और उल्टी की शिकायत

जांजगीर चांपा। जिला जेल जांजगीर में शनिवार को उस वक्त हड़कंप मच गया, जब वहां के 20 बंदियों को एक-एक कर सिर दर्द, पेट दर्द और उल्टियां होने लगी. मामले को गंभीरता से लेते हुए जेल अधीक्षक ने सभी बंदियों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया. फिलहाल सभी बंदियों का अस्पताल के जेल वार्ड में इलाज जारी है.

बंदियों ने इसकी जानकारी जेल अधीक्षक को दी. एक साथ अचानक 20 बंदियों के बीमार होने से जेल अधीक्षक सकते में आ गए और तत्काल उन बंदियों को जिला अस्पताल भिजवाया गया. यहां उनका इलाज जारी है. संभावना जताई जा रही है कि दूषित पदार्थ खाने-पीने के कारण कैदियों की तबीयत बिगड़ी होगी. लेकिन जेल प्रबंधन ने इस बात की अबतक कोईअधिकारिक पुष्टि नहीं की है.

जेलर का कहना है कि बीमार सभी बंदियों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में दाखिल कराया गया है. बता दें कि जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष राजेश श्रीवास्तव के निर्देशन में प्राधिकरण की अण्डर ट्रायल रिव्यू कमेटी के पदाधिकारी जिला न्यायाधीश राजेश श्रीवास्तव, अपर कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक पारूल माथुर, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट उदयलक्ष्मी सिंह परमार द्वारा बीते 8 मार्च को जिला जेल जांजगीर का औचक निरीक्षण किया गया था.

इस दौरान बंदियों को उपलब्ध कराए जा रहे भोजन की गुणवत्ता संतोषजनक नहीं पाई गई थी. इसके साथ ही अन्य खामियां भी देखने को मिली थी.

बता दें, अण्डर ट्रायल रिव्यू कमेटी ने भोजन की गुणवत्ता संतोषजनक नहीं पाए जाने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए जेल अधीक्षक को मौखिक निर्देश भी दिया गया था कि निर्धारित मानक के अनुसार और गुणवत्तायुक्त भोजन बंदियों को उपलब्ध कराया जाना सुनिश्चित करें. इसके बावजूद भोजन की गुणवत्ता में सुधार नहीं होने की बात सामने आ रही है. हालांकि, अब तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि एक साथ 20 बंदी आखिर बीमार क्यों हुए हैं.

Back to top button