शहर में 21 काम्प्लेक्स 1150 दुकान 90 लाख आमदनी फिर भी नही है मूलभूत सुविधाएं

रायगढ़। शहर में नगर निगम के द्वारा लोगों को जीविकोपार्जन के लिए कई तरह की सुविधाएं राज्य एवं निगम अधिनियम के तहत दिया जाता है जिसमें सबसे शहर में निगम द्वारा लोगों को व्यवसाय किए जाने के लिए काम्प्लेक्स बनाया गया है।

देखा जाय तो शहर में 21 काम्प्लेक्स में 1150 दुकान निगम द्वारा बनाई गई है। इन काम्प्लेक्स से निगम को 90 लाख के आसपास आमदनी से निगम का खजाना भरता है परन्तु इन निगम द्वारा केवल खजाना भरने का ही केवल काम कर रही है।

गौरतलब है कि इन काम्प्लेक्स ने निगम प्रशासन ने जिस तरह लोगो को सुव्यवस्थित काम्प्लेक्स बना कर दिए जाने की बात कही जाती है वह एक तरह से छलावा है। शहर में मुख्यमंत्री स्वालम्बन से बनी दुकान हो या फिर राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत सभी मे कोई भी सुविधाए नही है।

जिसमें नगर निगम द्वारा शौचालय तक बनाने की जहमत नही उठाई है इससे लोग एवं दुकानदार खुलें में शौच करते आसानी से देखा जा सकता है।

-मूलभूत सुविधाओं के नाम पर छलावा

शहर में 21 से अधिक काम्प्लेक्स नगर निगम द्वारा संचालित की जाती है वही इन काम्प्लेक्स के निर्माण से पूर्व लोगो के सामने नगर निगम सुसज्जित एवं व्यवस्थित काम्प्लेक्स निर्माण किये जाने की प्रस्तावना प्रस्तुत करती है

परन्तु जैसे जैसे इसकी रूप रेखा आगे बढ़ती है वैसे वैसे यह तय प्रालन को छोड़ देता है। आलम यह है कि शहर में निगम के किसी भी व्यवसायिक काम्प्लेक्स में किसी भी प्रकार की मूलभूत सुविधाएं आम जनता एवं व्यपारियों के लिए नही है। जो एक तरह से छलावा साबित हो रहा है।

स्वच्छता अभियान में लग रहा ग्रहण

शहर के मध्य एसपी आफिस काम्प्लेक्स, रविशंकर मार्केट, रेल्वे स्टेशन, नगर निगम सामने, केवड़ाबाड़ी काम्प्लेक्स, जेल परिसर, भगतसिंह काम्प्लेक्स, मिनी स्टेडियम काम्प्लेक्स, रामलीला मैदान काम्प्लेक्स साहित अन्य काम्प्लेक्स में किसी तरह में केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी योजना स्वच्छता अभिया में ग्रहण लग रहा है

जिसका मूल कारण इन काम्प्लेक्स में पानी, शौचालय का अभाव है जिसे यहां खरीददारी करने आये लोगों इससे झूझना पड़ता है वही काम्प्लेक्स के अगल बगल में खुले में शौचालय किए जाने से लोगों को बदबू से हलाकान होना पड़ता है।

Back to top button