छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में 23411 मतदान केन्द्र, 1 करोड़ 79 लाख 25 हजार 6 मतदाता

रायपुर : छत्तीसगढ़ में 23411 मतदान केन्द्र हैं, जिसमें 1 करोड़ 79 लाख 25 हजार 6 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। आगे होने वाले चुनाव में ईवीएम के साथ वीवीपैड भी उपलब्ध होगा। ये बातें छत्तीसगढ़ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने शुक्रवार को पत्रकारवार्ता में कही। उन्होंने कहा कि, भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली के निर्देश पर मतदान केन्द्रों के युक्तियुक्तकरण का कार्य किया गया है। वहीं आज पुनरीक्षण कार्यक्रम की तिथियां भी जारी की गई हैं।

उन्होंने कहा कि, वर्ष 2016 में मतदान केन्द्रों के युक्तियुक्तकरण के बाद मतदान केन्द्रों की संख्या 22931 थी। आयोग के मापदंड का पालन कर मतदान केन्द्रों का युक्तियुक्तकरण किया गया। ग्रामीण क्षेत्रों में जिन मतदान केन्द्रों में 1200 से अधिक और शहरी क्षेत्रों में 1400 से अधिक मतदाता हैं, वहां पर अनुभाग अनुकूलन के माध्यम से या दो भागों में विभाजित कर नए मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। दूरी, जर्जर भवन या अधिक उपयुक्त भवन उपलब्ध होने के आधार पर भवन परिवर्तन भी किए गए हैं।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने पुनरीक्षण कार्यक्रम की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि, छत्तीसगढ़ में कुल संसदीय निर्वाचन क्षेत्र 11 हैं, 90 विधानसभा हैं और राज्यसभा की 5 सीट हैं। वहीं राज्य में कुल मतदान केन्द्रों की संख्या अब 23411 है, जिसमें प्रदेश के 1 करोड़ 79 लाख 25 हजार 6 मतदाता मतदान करेंगे। इनमें 90 लाख 28 हजार 892 पुरुष, 88 लाख 95 हजार 390 महिला और 724 थर्ड जेंडर मतदाता हैं।

वोटर आईडी को आधार से लिंक करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि, इस संबंध में अभी कोई निर्देश नहीं आया है। यदि आता है तो उसका पालन किया जाएगा। राजनैतिक दलों की ओर से भी इस संबंध में मांग की जाती रही है।

सुब्रत साहू ने कहा कि, छत्तीसगढ़ में कुल 712 नए मतदान केन्द्र बनाए गए हैं, 441 भवनों को परिवर्तित किया गया है। 221 के स्थल बदले गए हैं और 232 मतदान केन्द्रों को विलोपित किया गया है। जिसके बाद वर्तमान में प्रदेश भर में 23411 मतदान केन्द्र हैं। नक्सल प्रभावित मदतान केन्द्रों की सुरक्षा के बारे में उन्होंने कहा कि इस प्रकार के सभी मतदान केन्द्रों को पर्याप्त सुरक्षा उपलब्ध कराते आए हैं और आगे भी पर्याप्त सुरक्षा दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि, आज 13 अक्टूबर की शाम तक मतदान केन्द्रों की नई सूची का अंतिम प्रकाशन किया जाएगा। अंतिम प्रकाशन के बाद मतदान केन्द्रों की सूची मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों को संबंधित जिलों की ओर से नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाएगी।

10 जनवरी को मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन : पुनरीक्षण कार्यक्रम 23 अक्टूबर से शुरु होगा। मतदाता सूची का प्रारंभिक प्रकाशन 23 अक्टूबर 2017 होगा। दावा आपत्ति दर्ज कराने के लिए 23 अक्टूबर से 22 नवंबर 2017 तक का समय होगा। 29 अक्टूबर रविवार को ग्राम सभा, स्थानीय निकायों, रेसीडेंस वेलफेयर सोसायटी आदि की बैठकों में फोटो निर्वाचक नामावलियों के संबंधित के संबंधित भाग या अंश को पढऩा और नामों का सत्यापन करना होगा। 5 नवंबर को राजनैतिक दलों की ओर से नियुक्त बीएलए के साथ दावे और आपत्तियों का निराकरण 12 दिसंबर को होगा। वहीं डाटाबेस में अपडेशन, फोटो मार्जिंग, पूरक सूची की तैयारी और मुद्रण का कार्य 30 दिसंबर तक कर लिया जाएगा। आयोग की ओर से मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 10 जनवरी 2018 को किया जाएगा।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *