राष्ट्रीय

पिछले साल केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ हुए छेड़छाड़ मामले में चार्ज शीट दायर

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का पीछा करने और छेड़छाड़ करने के मामले में दिल्ली यूनिवर्सिटी के चार छात्रों के खिलाफ मंगलवार को पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर ली है.

पिछले साल अप्रैल में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का पीछा करने और छेड़छाड़ करने के मामले में दिल्ली यूनिवर्सिटी के चार छात्रों के खिलाफ मंगलवार को पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर ली है. आपको बता दें की ये पूरा मामला पिछले साल हैं जब डीयू के चार छात्रों ने स्मृति ईरानी की कार को ओवरटेक करने की कोशिश की थी.

आरोप है कि इस दौरान उन्होंने मंत्री का वीडियो बनाते हुए उन पर कमेंट भी किए थे. स्मृति ईरानी की शिकायत के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर चारों को हिरासत में ले लिया था.

ये है पूरा मामला

पिछले साल एक अप्रैल को स्मृति ईरानी एयरपोर्ट से लौट रही थीं. चाणक्यपुरी इलाके पहुंचने पर कार सवार चार लड़कों ने उनकी गाड़ी का पीछा करना शुरू कर दिया. वे उनका वीडियो बनाने लगे, साथ ही कमेंट्स भी पास किए. मंत्री ने 100 नंबर कॉल कर पुलिस को जानकारी दी. इस बीच उन्होंने खुद कार रुकवाई. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर युवकों को हिरासत में ले लिया.

पुलिस ने उनका मेडिकल टेस्ट करवाया तो सामने आया कि युवक शराब के नशे में थे. पूछताछ में खुलासा हुआ कि चारों युवक दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र हैं.

छात्र ने मांगी माफी

मामले में एक आरोपी छात्र ने स्मृति ईरानी से माफी मांगी थी. उसने घटना के बारे में जानकारी देते हुए बताया था कि ‘हम मानते हैं कि हमने नियमों का उल्लंघन किया है. गाड़ी में तेज आवाज में गाने चल रहे थे, हम लोग इंस्टाग्राम के लिए वीडियो बना रहे थे. इस बीच हम लोगों को कुछ नहीं पता था कि हमसे कोई गलती हुई, अनजाने में भी नहीं पता, उसके बाद जब हमारे पास से गाड़ी निकली तो हमें नहीं पता था कि उसमें कौन बैठा है, हमने किस गाड़ी को ओवरटेक किया यह हमको नहीं पता, अगर पता होता तो हम लोग ऐसा नहीं करते.’ उसने आगे कहा कि उसे याद भी नहीं कि उन लोगों ने छेड़छाड़ की थी या नहीं.

इसके बाद युवक ने स्मृति ईरानी से माफी भी मांगी थी, हालांकि, इस पर मंत्री की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई थी.

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.