भारत समेत 26 देश लेंगे समुद्री सैन्य अभ्यास में भाग, चीन बाहर

वाशिंगटन : अमेरिका की अगुवाई में होने वाले सबसे बड़े समुद्री सैन्य अभ्यास रिमपैक में भारत समेत दुनिया के 26 देश हिस्सा लेंगे। यह सैन्य अभ्यास प्रशांत महासागर में अमेरिका के हवाई द्वीप और दक्षिणी कैलिफोर्निया के आसपास 27 जून से दो अगस्त तक चलेगा। इसके लिए पहले अमेरिका ने चीन को भी न्योता दिया था लेकिन दक्षिण चीन सागर में उसके रवैये के कारण बाद में उसे सैन्य अभ्यास से बाहर कर दिया। अमेरिका के इस कदम को चीन ने दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया था।

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने गुरुवार को कहा, रिमपैक में इस साल ब्राजील, इजरायल, श्रीलंका और वियतनाम पहली बार हिस्सा लेंगे। इस बार की थीम सक्षम, अनुकूल और साझीदारी है। इन देशों के अलावा ऑस्ट्रेलिया, ब्रुनेई, कनाडा, चिली, कोलंबिया, फ्रांस, जर्मनी, इंडोनेशिया, जापान, मलेशिया, मेक्सिको, नीदरलैंड्स, न्यूजीलैंड, पेरू, दक्षिण कोरिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाइलैंड, टोंगा और ब्रिटेन भी भाग लेंगे।

25 हजार सैनिक होंगे शामिल : इस साल होने वाले रिमपैक में 47 युद्धपोत, पांच पनडुब्बी और 200 से ज्यादा विमान हिस्सा लेंगे। इसके अलावा इस युद्ध अभ्यास में विभिन्न देशों के 25 हजार सैनिक भी शिरकत करेंगे।

सैन्य अभ्यास की खासियत : करीब डेढ़ महीने तक चलने वाले इस अभ्यास में लंबी दूरी तक मार करने वाली पोत रोधी मिसाइल (एलआरएएसएम), सतह से पोत पर मार करने वाली मिसाइल और नेवल स्ट्राइक मिसाइल (एनएसएम) भी दागी जाएगी। इस साल लाइव फाय¨रग में पहली बार थल इकाइयां भी शामिल होंगी।

1971 में शुरू हुआ था रिमपैक : रिम ऑफ द पैसिफिक एक्सरसाइज (रिमपैक) हर दो साल में गर्मी में होता है। यह दुनिया का सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय सैन्य अभ्यास है। अमेरिका ने 1971 में इसकी शुरुआत की थी।

new jindal advt tree advt
Back to top button