छत्तीसगढ़

बुधवार को आंदोलन करेंगे प्रदेश के 26 किसान व आदिवासी संगठन

केंद्र सरकार के किसान विरोधी संशोधनों को वापस लेने की मांग

रायपुर। प्रदेश के 26 किसान व आदिवासी संगठन बुधवार को केंद्र सरकार के किसान विरोधी संशोधनों को वापस लेने की मांग पर आंदोलन करेंगे. ग्रामीण गरीबों को सामाजिक-आर्थिक सुरक्षा देने के लिए हर परिवार को 10000 रुपये मासिक मदद देने की मांग की हैं.

साथ ही धान का समर्थन मूल्य 3465 रुपए घोषित करने, ठेका कृषि को कानूनी दर्जा देने के विरोध, मनरेगा में रोजगार व नगद आर्थिक सहायता देने, बिजली क्षेत्र के निजीकरण के अलावा केंद्र सरकार के किसान विरोधी संशोधनों को वापस लेने की मांग की है.

इन संगठनों में छत्तीसगढ़ किसान सभा, आदिवासी एकता महासभा, किसानी प्रतिष्ठा मंच, भारत जन आंदोलन, छग प्रगतिशील किसान संगठन, राजनांदगांव जिला किसान संघ, क्रांतिकारी किसान सभा, छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन, छमुमो मजदूर कार्यकर्ता समिति, हसदेव अरण्य बचाओ संघर्ष समिति आदि संगठन शामिल हैं.

विरोध-प्रदर्शन की जानकारी देते हुए संजय पराते, विजय, आईके वर्मा, सुदेश टीकम, आलोक शुक्ला, केशव सोरी, ऋषि गुप्ता, राजकुमार गुप्ता, कृष्णकुमार, बालसिंह आदि किसान नेताओं ने सभी प्रवासी मजदूरों को एक स्वतंत्र परिवार मानते हुए उन्हें राशन कार्ड और प्रति व्यक्ति हर माह 10 किलो मुफ्त अनाज देने, मनरेगा कार्ड देकर प्रत्येक को 200 दिनों का रोजगार देने और ग्रामीण गरीबों को सामाजिक-आर्थिक सुरक्षा देने के लिए हर परिवार को 10000 रुपये मासिक मदद देने की मांग की हैं.

Tags
Back to top button