छत्तीसगढ़

3 नाबालिग बेटियों को मां ने भेज दिया पड़ोसी के साथ, 4 महीनों के बाद नहीं आई वापस

रायपुर।

पड़ोसियों पर भरोसा करके मां-बाप ने अपनी बेटियों को उनके साथ भेज दिया। उसके बाद से बेटियां वापस लौट के नहीं आई। छत्तीसगढ़ की राजधानी में आर्केस्टा में काम दिलाने का झांसा देकर तीन नाबालिग लड़कियों को पड़ोसी दपंती बाहर ले गया। इसके बाद से लड़कियां घर नहीं पहुंची हैं और न ही उनका पता चल पाया है।

4 महीने से गायब है बेटियां

पुलिस के मुताबिक ट्रांसपोर्ट नगर निवासी 48 वर्षीया महिला की तीन बेटियां हैं। तीनों की उम्र 14 साल 6 माह, 15 साल 6 माह और 16 साल 6 माह है। उनके घर के पड़ोस में ललिता देवार और महेश देवार रहते थे। 6 सितम्बर को ललिता ने नाबालिगों को आर्केस्टा में काम दिलाने की बात कही और उन्हें मध्यप्रदेश ले गई।

लेकिन चार माह होने के बाद भी लड़कियां घर नहीं पहुंची हैं। इससे उसके परिजन परेशान हैं। पिछले कई दिनों से खमतराई थाने की चक्कर काट रही थी। पुलिस ने सोमवार को आरोपी महिला और उसके पति के खिलाफ अपराध दर्ज किया है।

जबरदस्ती मानव तस्करी और देहव्यापार कराने की आशंका

तीनों नाबालिगों से जबरदस्ती मानव तस्करी और देहव्यापार कराने की आशंका है। बताया जाता है कि पिछले चार माह से नाबालिगों को रायपुर नहीं लाया गया है। उन्हें मध्यप्रदेश के अलग-अलग शहरों में घुमाया जा रहा है। आरोपी भी रायपुर में नहीं है। नाबालिगों ने अपने परिजनों को सूचना दी है कि उनके साथ अच्छा नहीं हो रहा है।

इसके बाद परिजनों ने थाने का चक्कर काटना शुरू किया है। पीडि़ता की शिकायत पर अपराध दर्ज करने के बाद नाबालिगों की तलाश के लिए खमतराई पुलिस ने अपनी टीम भेज दी है। खमतराई थाना प्रभारी पूर्णिमा लामा ने बताया कि नाबालिगों की उसके परिजनों से बात हो रही है। उनकी तलाश में पुलिस की टीम रवाना हो गई है।

Tags
Back to top button
%d bloggers like this: