30 वर्षीय सिपाही ने कनपटी पर गोली मारकर की खुदकुशी

अफसरों की ओर से पारिवारिक विवाद की भी बात कही गयी

बिलसंडा:पीलीभीत-बीसलपुर मार्ग पर गाजीपुर मुगल गांव के पास ऑल्टो कार में यूपी 100 बिलसंडा में कार्यरत 30 वर्षीय सिपाही जितेंद्र सिंह चौहान का शव पड़ा मिला। उसने कनपटी पर गोली मारकर खुदकुशी कर ली।

मरने से पहले सिपाही ने फेसबुक लाइव पर आकर खुदकुशी के पीछे पुलिस विभाग से प्रताड़ित होने को वजह बताया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। एसपी समेत कई अफसर जिला अस्पताल पहुंचे। अफसरों की ओर से पारिवारिक विवाद की भी बात कही गयी है। फिलहाल जांच की जा रही है।

मूल रूप से शामली के गांव उस्मानपुर निवासी जितेंद्र सिंह चौहान 2016 बैच का सिपाही था। उसकी तैनाती बिलसंडा में यूपी 100 पर थी। पत्नी सरिता भी सिपाही है, जोकि बीसलपुर कोतवाली में तैनात है।

शनिवार शाम करीब चार बजे उसका शव पीलीभीत-बीसलपुर रोड पर बरखेड़ा थाना क्षेत्र में गाजीपुर मुगल गांव के पास अपनी कार में मिला। उसकी कनपटी पर गोली लगी हुई थी। ग्रामीणों से सूचना मिलने पर इंस्पेक्टर बरखेड़ा वीरेश कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे।

सिपाही को जिला अस्पताल भिजवाया गया, वहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। एसपी किरीट कुमार, सीओ सिटी वीरेंद्र विक्रम, सीओ बीसलपुर प्रशांत सिंह भी जिला अस्पताल पहुँचे। सिपाही ने मरने से कुछ घंटे पहले ही फेसबुक लाइव पर आकर अपना दर्द बयां किया था। इसमे सिपाही ने खुदकुशी के पीछे विभाग से प्रताड़ित होने की बात कही।

पारिवारिक कलह की भी बात निकल कर आ रही है। जिसे लेकर अफसर छानबीन में जुटे है। विभाग से प्रताड़ित होने के पीछे छुट्टी न मिलने की चर्चा थी। मगर पुलिस अफसरों का कहना है कि एक दिन पहले ही ऑनलाइन आवेदन किया था। उसमें तीन दिन की छुट्टी होने की बात कही गयी है।

पुलिस विभाग के अधिकारी इस पूरे मामले को खुदकुशी बता रहे है। कारण को लेकर अलग अलग बात कही जा रही है। मगर एक बात किसी के गले नहीं उतर सकी है। क्योंकि कोई भी असलहा मौके पर नहीं मिला है। न ही कोई इसे लेकर कुछ बता सका है।

एक सिपाही ने खुदकुशी की है। सूचना मिलने पर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। फेसबुक लाइव पर पोस्ट की भी जानकारी मिली है। सभी बिंदुओं पर जांच कर कार्रवाई कराई जाएगी।
– किरीट कुमार, एसपी

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button