राष्ट्रीय

मोदी के 4 साल,कई वादे हुए पूरे, कई वादों पर लगा अल्पविराम

PM नरेंद्र मोदी के चार साल के कार्यकाल की ऐसी आठ योजनाओं पर एक नज़र

नई दिल्ली: केंद्र में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार के चार साल पूरे हो रहे हैं. BJP के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार बहुत-से वादों के साथ कांग्रेस-नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन, यानी UPA सरकार को हराकर सत्ता पर काबिज हुई थी. प्रधानमंत्री के रूप में स्थापित होने से पहले, चुनाव प्रचार के दौरान ही नरेंद्र मोदी की छवि बेहद प्रभावी वक्ता की बन गई थी, और UPA सरकार के तहत आए दिन छप रही भ्रष्टाचार की ख़बरों के बीच उनकी बातों का असर इस कदर हुआ कि NDA को अभूतपूर्व सफलता हासिल हुई. 1984 के बाद 2014 का चुनाव पहला मौका था, जब देश की जनता ने किसी एक दल को स्पष्ट बहुमत दिया, और देश की आज़ादी के बाद पहला मौका था, जब किसी गैर-कांग्रेसी दल को लोकसभा में पूर्ण बहुमत प्राप्त हुआ.

भले ही नरेंद्र मोदी सरकार ने बहुत-से अधूरे वादों पर जनता को आज भी जवाब देना है, लेकिन उनके बहुत-से कदम ऐसे भी रहे, जो पहले कभी नहीं उठाए गए. जिन योजनाओं का लाभ सबसे अधिक लोगों तक पहुंचा, उनमें जन-धन योजना, उज्‍ज्‍वला योजना, उजाला योजना आदि प्रमुख हैं. PM नरेंद्र मोदी के चार साल के कार्यकाल की ऐसी आठ योजनाओं पर एक नज़र, जिन्होंने देश की जनता को प्रभावित किया.

Tags

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button
%d bloggers like this: