310 करोड़ कागज़ की बचत से 4 लाख पेड़ बचे, लेकिन बेरोजगारों क्या?

अब तक रेलवे ने दो बार कुल 89409 पदों के लिए निकाली वेकेंसी

नई दिल्ली.रेल मंत्रालय ने बीती मंगलवार को एक प्रेस रिलीज जारी कर खुशखबरी दी है कि अगस्त 2015 से रेलवे भर्ती से जुड़ी साड़ी प्रक्रियाएं ऑनलाइन हो गयी है. इस साल अब तक रेलवे ने दो बार कुल 89409 पदों के लिए वेकेंसी निकाली है जिसके लिए कुल 2 करोड़ 37 लाख 56 हज़ार लोगों ने अप्लाई किया था. मंत्रालय का कहना है कि परीक्षाएं ऑनलाइन कराने से A4 साइज़ के 310 करोड़ कागजों की बचत हुई चार लाख पेड़ कटने से बचे हैं.

करोड़ों बेरोजगारों पर फिलहाल सरकार का ध्यान ना के बराबर

देश में बेरोज़गारी की बढ़ती समस्या को भी सामने लाती है. रेलवे ने 89409 पदों के लिए भर्ती निकली थी जिसके लिए 2.37 करोड़ लोगों ने आवेदन किया. ऐसे में अगर भर्तियां वक़्त से हो भी जाएं तो 2.36 करोड़ बेरोजगार ज्यों के त्यों बने रहेंगे. सरकार 310 करोड़ कागजों की बचत तो बता रही है लेकिन इन करोड़ों बेरोजगारों पर फिलहाल कोई बात नहीं कर रहा. पिछले दिनों यूपी सरकार में निकली 368 पदों पर चपरासी की भर्ती के लिए 23 लाख लोगों ने फॉर्म भरे थे, जिनमें 255 लोगों के पास PhD की डिग्री थी. इसके अलावा 2 लाख से ज्यादा के पास BTech, BSc, Mcom और MSc की डिग्रियां थीं.

Back to top button