चट्टान खिसकने से मृत हुए लोगों के रिश्तेदारों के लिए 5-5 लाख की मदद

रायगढ़ के तलीये गांव में अब तक 49 शव मिले, पूरे जिले से कुल 54 मृत्यु

मुंबई:महाराष्ट्र में बारिश के चलते हालात खतरनाक बने हुए हैं. लगातार कई दिनों से हो रही बारिश की वजह से सांग्ली, सतारा, रत्नागिरी, रायगढ़, कोल्हापुर और ठाणे में भयानक हादसे हुए हैं, जिनमें 138 लोगों की मौत हुई है. यहां NDRF की 34 टीमें राहत और बचाव कार्यों में जुटी हैं, लेकिन बारिश और बाढ़ के बाद बर्बादी के निशान साफ देखे जा सकते हैं.

रत्नागिरि, रायगढ़, कोल्हापुर, सांगली, सातारा, सिंधुदुर्ग, पुणे, ठाणे, और मुंबई में बरसात ने जम कर कहर ढाया है. इस बरसात और चट्टान खिसकने की घटनाओं ने अब तक राज्य में 139 लोगों की जान ले ली है. 50 लोग जख़्मी हैं और 73 लोगों की तलाश जारी है.

इस बीच मंत्री विजय वडेट्टीवार ने रविवार देर शाम तक चट्टान खिसकने से मृत हुए लोगों के रिश्तेदारों के लिए 5-5 लाख की मदद और बाढ़ग्रस्त लोगों के लिए 10-10 हजार रुपए तत्काल मदद की घोषणा कर दी.

रायगढ़ के तलीये गांव में अब तक 49 शव मिले, पूरे जिले से कुल 54 मृत्यु

राज्य के कोंकण और पश्चिम महाराष्ट्र के इलाकों में बाढ़ ने सबसे अधिक तबाही मचाई है. इनमें रायगढ़, सातारा और रत्नागिरि जिलों में सबसे ज्यादा मौतें हुईं हैं. रायगढ़ के महाड तालुका के तलीये गांव में चट्टान खिसकने से हुई दुर्घटना में अब तक 49 लोगों की मौत हो चुकी है. देर शाम जिलाधिकारी निधि चौधरी ने यह जानकारी दी.

आखिर उस 9 महीने के बच्चे का पता नहीं चला, जिसकी तलाश में NDRF की टीम लगी हुई थी. अंत में गांव वालों की सलाह पर तलीये गांव में खोज मुहिम रोक दी गई. एनडीआरएफ के आंकड़े के मुताबिक वहां अभी भी 23 लोग लापता हैं. रायगढ़ जिले में बाढ़ के संकट ने कुल 54 लोगों की बलि ली है और 28 लोग जख्मी हैं.

सातारा जिले में बरसात की वजह से कुल 37 मृत्यु

सातारा जिले की अलग-अलग दुर्घटनाओं में 37 लोगों की मृत्यु हुई और 3 लोग लापता हैं. सातारा जिले के वाई, पाटन, महाबलेश्वर, सातारा, जावली तालुकों में अनेक जगहों पर भूस्खलन से 26 लोगों की मृत्यु हो गई. इनमें सिर्फ आंबेघर की बात करें तो 5 पुरुष और 6 महिलाओं की मौत हो गई जबकि मिरगांव में 4 पुरुष और 4 महिलाओं की मौत हो गई है.

इसी तरह छत गिरने से 1 की मृत्यु हो गई. चट्टान खिसकने से 2 लोगों की मौत हो गई तो बाढ़ के पानी में बह कर 8 लोगों की मृत्यु हो गई. जिले में कुल 37 मौत होने की जानकारी जिलाधिकारी शेखर सिंह ने दी.

रत्नागिरी में 21 लोगों की मौत, 14 लोग लापता, 7 जख्मी

रत्नागिरि जिले में 21 लोगों की मौत हुई है और 14 लोग लापता हैं जबकि 7 लोग जख्मी हैं. इसी तरह कोल्हापुर में 7 लोगों की मृत्यु हुई है और 1 व्यक्ति लापता है. इसी तरह ठाणे में 12, पुणे में 2 और मुंबई में 4 और सिंधुदुर्ग में 2 लोगों की मौत बरसात से सबंधित दुर्घटनाओं की वजह से हुई है.

1 लाख 35 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया गया

इन सभी जिलों से कुल 1 लाख 35 हजार लोगों को बाढ़ के पानी से बचाकर सुरक्षित स्थानों तक लाया जा चुका है. कुछ इलाकों में बाढ़ की हालत धीरे-धीरे नियंत्रण में आ रही है. फिलहाल राज्य में NDRF की 34 टीम, SDRF की 4 टीम, कोस्ट गार्ड की 3 टीम, नौ सेना की 7 टीम, भारतीय सेना की 3 टीम बचाव कार्यों में उतरी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button