आॅक्सी रीडिंग जोन के लिए आयी 1.5 करोड़ रूपए की 50 हजार पुस्तकें 

24×7 होगा संचालित: हाई सिक्युरिटी के लिए लगाया जा रहा आरएफ आईडी और बायो मेट्रिक्स सिस्टम

रायपुर: राजधानी रायपुर में युवाओं को संघ और राज्य लोक सेवा आयोग सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए प्रतियोगी वातावरण और बेहतर संसाधन मुहैया कराने जिला प्रशासन द्वारा जिला खनिज न्यास निधि से करीब 14 करोड़ की लागत से एनआईटी के पास 6 एकड़ में बनाए जा रहे आॅक्सी रीडिंग जोन का निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है। आॅक्सी रीडिंग जोन के लिए डीएमएफ से करीब 1.5 करोड़ रूपए की लागत से विभिन्न विषयों व क्षेत्रों की 50 हजार से अधिक पुस्तकें खरीदी गई है। लाइब्रेरी में इन दिनों खरीदी गई पुस्तकों की कम्प्यूटर में एन्ट्री का कार्य तेजी से किया जा रहा है।

लाईब्रेरी में रहेंगी 50 हजार से अधिक पुस्तकें

कलेक्टर ओ.पी.चौधरी ने बताया कि आॅक्सी रीडिंग जोन की लाइब्रेरी में 50 हजार से अधिक पुस्तकों की व्यवस्था की गई है। राज्य के युवाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं के संबंध में जागरूक करने तथा इन परीक्षाओं के लिए रिफरेंस पुस्तकें उपलब्ध कराकर उनके चयन के अवसर को बढ़ाने के लिए इस आॅक्सी रीडिंग जोन में सर्वाधिक संख्या में प्रतियोगी परीक्षा संबंधी पुस्तकों को लिया गया है। इसमें 25 हजार किताबें संघ और राज्य लोक सेवा आयोग, कर्मचारी चयन आयोग, व्यापम, बैंक, रेल्वे, सेना भर्ती, नेट, सेट, इंजीनियरिंग, मेडिकल, लाॅ आदि की प्रतियोगी परीक्षाओं पुस्तकें है।

इसके साथ ही यहां छत्तीसगढ़ सहित देश-विदेश के प्रसिद्ध महापुरूषों, साहित्यकारों, वैज्ञानिकों, खिलाड़ियों आदि की जीवनी एवं उनके द्वारा लिखी गई पुस्तकों का दुर्लभ संग्रह रहेगा। युवाओं की रिसर्च में रूचि बढ़ाने के लिए शोध संबंधी पुस्तकें तथा वरिष्ठ नागरिकों के लिए पौराणिक, ऐतिहासिक, साहित्यिक एवं मनोरंजनात्मक पुस्तकें उपलब्ध रहेंगी।

   

बच्चों के लिए बाल कार्नर 

बच्चों में पढ़ने की रूचि जागृत करने तथा उन्हें बचपन से ही प्रतियोगी वातावरण मुहैया कराने के लिए आॅक्सी रीडिंग जोन में बाल कार्नर भी बनाया जा रहा है। इसमें हितोपदेश, पंचतंत्र, हेरी पार्टर, अकबर-बीरबल, बालगीत व बाल कहानियों से संबंधी करीब 3 हजार पुस्तकें रहेंगी।

 

लाईब्रेरी
लाईब्रेरी

एनसीआरटी व नेशनल बुक ट्रस्ट की 20 हजार पुस्तकें 

आॅक्सी रीडिंग जोन में एनसीआरटी की कक्षा पहली से लेकर 12वीं तक की सभी किताबों के साथ ही नेशनल बुक ट्रस्ट, पब्लिकेशन डिवीजन भारत सरकार, छत्तीसगढ़ राज्य हिन्दी ग्रंथ अकादमी और छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम द्वारा प्रकाशित की जाने वाली मानक पुस्तकों का विशाल संग्रह यहां रहेगा।

 

हिन्दी, अंग्रजी के साथ छत्तीसगढ़ी व संस्कृत की किताबें भी

आॅक्सी रीडिंग जोन में हिन्दी और अंग्रजी माध्यम के साथ ही छत्तीसगढ़ी व संस्कृत भाषा की भी किताबें विशेष रूप से रखी जा रही है।

 

आरएफआईडी और बायो मेट्रिक्स से मिलेगा प्रवेश

आॅक्सी रीडिंग जोन प्रदेश का पहला ऐसा शैक्षणिक परिसर होगा जो सातों दिन और 24 घण्टें संचालित होगा। इसे देखते हुए यहां हाई सिक्युरिटी की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जा रही है। सीसीटीव्ही कैमरे और सिक्युरिटी गार्ड की व्यवस्था के साथ ही यहां के मेम्बरों को प्रवेश के लिए आरएफ आर्डडी कार्ड दिया जाएगा साथ ही वे अपने बायोमेट्रिक्स के आधार पर ही परिसर में प्रवेश कर सकेंगे। पुस्तकों की सुरक्षा के लिए अलार्म युक्त सिक्युरिटी गेट भी लगाया जा रहा है। यदि कोई बिना इश्यु कराए पुस्तक को बाहर ले जाने की कोशिश करेगा तो यह अलार्म बज उठेगा।

 

Back to top button