छत्तीसगढ़

पावन ग्राम आमगांव में संस्कार युक्त 51 कुंडीय गायत्री महायज्ञ संपन्न

राजशेखर नायर:

नगरी: ग्राम आमगांव में जन-जन में देवत्व जगाने एवं दूषित वातावरण को व मानव मस्तिष्क के विचारों को शुद्ध करने के उद्देश्य से विविध संस्कारों को लेकर शांतिकुंज हरिद्वार हरिद्वार के तत्वाधान में 51 कुंडीय गायत्री महायज्ञ धमतरी जिले के नगरी ब्लाक के दूरस्थ अंचल में बसे श्रृंगी ऋषि की तप:स्थली से 20 किलोमीटर दूरी पर बसे पावन ग्राम आमगांव में संपन्न हुआ। जिसका शुभारंभ 501 कलश धारी बहनों द्वारा कलश यात्रा के माध्यम से हुआ।

24 गर्भवती माताओं का पुंसवन संस्कार

प्रतिदिन प्रातः 5:00 बजे से योग प्राणायाम एवं ध्यान की कक्षा हुई व प्रातः 9:00 बजे से से 1:00 बजे तक यज्ञ एवं विविध संस्कार संपन्न हुए जिसमें 24 गर्भवती माताओं का पुंसवन संस्कार हुआ जिसमें यह बताया गया की कैसे गर्भ अवस्था में ही शिशु को अभिमन्यु की तरह श्रेष्ठ संस्कारवान बनाया जा सकता है पुराने जन्म के कुसंस्कारों को हटाकर श्रेष्ठ संस्कारों का बीजारोपण करने हेतु 70 बच्चों का मुंडन संस्कार करवाया गया।

4 बच्चो का अन्नप्राशन संस्कार

जैसा खाए अन्न वैसा बने मन इस उक्ति के आधार पर 4 बच्चो का अन्नप्राशन संस्कार करवाया गया। जीवन के लक्ष्य का बोध कराने वह उसे प्राप्त करने की सामर्थ्य शक्ति विकसित करने एवं जीवन के भटकाव से बचने हेतु समर्थ सत्ता का सहारा व शक्ति प्राप्त करने हेतु 94 भाई बहनों का दीक्षा संस्कार करवाया गया।

75 बच्चों का विद्यारंभ संस्कार

बच्चों को शिक्षा के साथ विद्या भी प्राप्त हो एवं जीवन जीने की कला विकसित हो इस हेतु 75 बच्चों का विद्यारंभ संस्कार करवाया गया। द्वितीय दिवस विभिन्न समाज प्रमुखों के द्वारा सभी समाज का मुख्य उद्देश्य मानव कल्याण विषय पर बौद्धिक चर्चा हुई जिसमें सभी ने एकमत से मानव धर्म को सर्वोपरि बताते हुए मानव जाति के एक समान उद्देश्य मानव कल्याण को स्वीकारा।

तृतिय दिवस नारी की गौरव गरिमा का बोध कराने के उद्देश्य से नारी जागरण कार्यशाला बहनों के माध्यम से संपन्न हुआ एवं सध्यां 5000 दीपकों के माध्यम से भव्य दीपयज्ञ संपन्न हुआ जिसमें लोगों के शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक विकास हेतु आहुतियां प्रदान की गई।

विशाल स्वास्थ्य एवं रक्तदान शिविर का आयोजन

समता युवा सघं जैन समाज व्दारा विशाल स्वास्थ्य एवं रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया व जिले के वरिष्ठ डाक्टरों ने अपनी सेवा प्रदान की जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने स्वास्थ्य लाभ लिया व रक्तदान किया । इस यज्ञ में एक भव्य प्रदर्शनी भी लगायी गई जिसमें गायत्री परिवार द्वारा चलाए जा रहे सप्तक्रांति आन्दोलन जिसमें साधना, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलंबन, पर्यावरण, नारी जागरण, व्यसन मुक्ति एवं कुरीति उन्मूलन के विषय में बताया व समझाया गया।

खराब मौसम व बारिश के बाद भी इस यज्ञ को सफल बनाया

इस यज्ञ को सफल बनाने में सेवानिवृत्त प्राचार्य एवं गायत्री परिवार के वरिष्ठ साधक यशवंत वर्मा एवं क्षेत्र के वरिष्ठजनो के मार्गदर्शन में यज्ञ आयोजन समिति के सदस्यों, युवा भाई बहनों एवं माताओं के सांथ गायत्री परिवार के परिजनों व आसपास के ग्रामवासियों ने भरपूर मेहनत की व तन मन धन से सहयोग प्रदान किया एवं खराब मौसम व बारिश के बाद भी इस यज्ञ को सफल बनाया गया।

पूरे कार्यक्रम में सभी श्रद्धालुओं के लिए निःशुल्क भोजन की व्यवस्था रही इसमें क्षेत्र के अनेक भामाशाहों के सांथ जन जन ने अपना विशेष योगदान दिया। इसे सफल बनाने में क्षेत्र के पत्रकार बन्धुओं का भी विशेष योगदान रहा। संपूर्ण कार्यक्रम का संचालन शांतिकूंज हरिद्वार से पधारे ऋषिपुत्रों व्दारा संपन्न किया गया।

गायत्री परिवार व्दारा समाज में व्याप्त विकृति को हटाने, वैचारिक विकृति को शुद्ध करने व मानव में देवत्व के भाव को विकसित करने हेतु यह अभियान पूरे भारतवर्ष में चलाया जा रहा।

Tags
Back to top button