क्राइमछत्तीसगढ़

4 क्विंटल गांजा के साथ 2 नाबालिग सहित 6 आरोपी गिरफ्तार

दो कार और एक पिकअप वाहन जब्त

महासमुंद: छत्तीसगढ़ के महासमुंद में 4 क्विंटल गांजा, दो कार और एक पिकअप वाहन के साथ 2 नाबालिग सहित 6 आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जब्त किये गए गांजा की कीमत 40 लाख रुपये बताई जा रही है।

गिरफ्तार किये गए तस्कर फिल्मी तरीके से लग्जरी कारों में पायलेटिंग करते हुए एक दूसरे का रास्ता क्लियर करते हुए गांजा पार कराते थे। पुलिस के मुताबिक मुखबिर से एसपी को गांजा परिवहन की सूचना मिली।

सूचना के बाद ओडिशा की ओर से महासमुंद आ रहे संदिग्ध वाहनों की बागबाहरा नगर पालिका के पास चेकिंग के दौरान एक नीले रंग की रंग की मारूति बलेनों कार तेज रफ्तार से आ रही थी जिसे रोक गया।

वाहन में कोरापुट ओडिशा निवासी दो व्यक्ति कैलाश चेटीऔर एक नाबालिक सवार था। वाहन की तलाशी के दौरान डिक्की में 5-5 किलो के 10 पैकेट में रखा 50 किलो गांजा बरामद हुआ। मामले में पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया।

इसी तरह थाना बागबाहरा की टीम कंटेनमेंट जोन के पास से आने-जाने वाले वाहनों को बाई पास करा रही थी कि एक संदिग्ध वाहन टाटा टीयागो ओडिशा की ओर से तेज रफ्तार से आ रही थी। जिसे वाहन चेकिंग पाईंट पर रोका गया।

कार में ओडिशा के कोरापुट जिले के दो व्यक्ति रंजन खोरा और एक नाबालिक सवार थे। वाहन की तलाशी लेने पर डिक्की में 5-5 किलो के 10 पैकेटों में रखा 50 किलो गांजा बरामद हुआ। पुलिस ने मामले में दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया।

आरोपियों से पूछताछ के बाद पुलिस ने गांजा की बड़ी खेप लेकर आ रही आंध्रप्रदेश पासिंग मैक्स पीकअप वाहन को पिथौरा चौक बागबाहरा के पास रोका। वाहन में कोरापुट ओडिशा निवासी थे। पुलिस ने वाहन की तलाशी ली, जिसमें मिर्ची भरी हुई थी। मिर्ची की बोरियों को बाहर निकाला तो अंदर 15 बोरियों में 300 किलो गांजा भरा मिला। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया।

इस पूरे मामले में पुलिस ने 40 लाख रुपये कीमत का 4 क्विंटल गांजा, 15 लाख रुपये की 2 कार, 1 पिकअप वाहन और 4100 रुपये नगद वाहन बरामद किया। बरामद किये गए मशरुका की कुल कीमत 55 लाख रुपये बताई जा रही है. पुलिस के मुताबिक सभी आरोपी आपस में दोस्त हैं और एक गिरोह की तरह लग्जरी कारों में एक दूसरे को पायलेटिंग कर रास्ता क्लियर करते हुए गांजा पार कराने का काम करते थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button