पुलवामा हमले के 7 दिन बाद कांग्रेस ने मोदी पर लगाई आरोपों की झड़ी

देश शहीदों की यादें बीन-बीनकर चुन रहा है और मोदी के सैर सपाटे शुरू हो गये

रायपुर: पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय जनता पार्टी, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बयानों और उनके आचरण से साफ हो रहा है कि देश के वीर जवानों की इतनी बड़ी शहादत में भी भाजपा राजनीति का घिनौना प्रयास कर रही है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि यह बेहद दुखद है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए सत्ता की लालसा देश की सेना और शहीदों के सम्मान से बड़ी है।

जब पूरा देश गुरुवार को 14 फरवरी, 2019 को पुलवामा में 3 बजकर 10 मिनट पर आतंकी हमला होता है, जिसमें हमारे 40 जवान शहीद हो जाते हैं, पूरा देश उस सदमे से जूझ रहा था और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राम नगर, नैनीताल के अंदर कॉर्बेट नेशनल पार्क में विज्ञापन फिल्म की शूटिंग कर रहे थे। 3 बजकर 10 मिनट पर ये खबर आ गई, 5 बजकर, 15 मिनट पर कांग्रेस ने भी अपना रिएक्शन दे दिया था, पर मोदी जी क्या कर रहे थे? उधर दिनभर कॉर्बेट नेशनल पार्क का भ्रमण करने के बाद शाम पौने सात बजे प्रधानमंत्री का काफिला धनगढ़ी गेट से निकला।

3ः10 पर हमला होता है, 6ः45 तक प्रधानमंत्री फिल्म की शूटिंग करते हैं, नौका विहार करते हैं, अपना प्रचार-प्रसार करते हैं, क्या दुनिया में ऐसा कोई प्रधानमंत्री है? प्रधानमंत्री रामनगर के पीडब्लूडी गेस्ट हाउस में भी कुछ देर रुके, फिर चले गए। पीएम को डिकाला से धनगढ़ी गेट पहंचुने पर अंधेरा हो गया, शाम 6 बजकर, 30 मिनट पर व धनगढ़ी गेट पहुंचे और वहाँ के अधिकारियों से 10 मिनट वार्ता की, 6 बजकर, 40 मिनट पर उनका काफिला गेट से बाहर निकला। यही नहीं धनगढ़ी गेट से जैसे ही उनका काफिला बाहर निकला तो वहाँ स्थानीय लोगों ने नरेन्द्र मोदी जिंदाबाद के नारे लगाए, प्रधानमंत्री जी ने सभी का अभिवादन किया।

देश हमारे शहीदों के शरीर के टुकड़े चुन रहा था और प्रधानमंत्री अपने नारे लगवा रहे थे और अभिवादन स्वीकार कर रहे थे और यही नहीं इसके बाद वह राम नगर के पीडब्लूडी गेस्ट हाउस पहुंचे और वहाँ रुक कर चाय-नाश्ता किया। पूरे देश के चूल्हे बंद थे और प्रधानमंत्री जी 7 बजकर 7 बजे सायं, गुरुवार को चाय-नाश्ते का आनंद ले रहे थे। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि इतनी बड़ी दुर्भाग्यजनक घटना के बाद भी मोदी सरकार ने राष्ट्रीय शोक की घोषणा करना भी जरूरी नहीं समझा।

अलग-अलग लोगों की मांग के बावजूद भी मोदी सरकार ने राष्ट्रीय शोक की घोषणा नहीं किया ताकि उनके उद्घाटन, लोकार्पण और जनसभाओं के कार्यक्रम बाधित न हो। आज देश गहरे शोक से गुजर रहा है, शहीदों की यादें बीन-बीन कर चुन रहा है, पर मोदी जी दो दिन की विदेश यात्रा में दक्षिण कोरिया सैर-सपाटे के लिए पहुंच गए हैं। एक ऐसे संवेदनशील समय में, जब देश इतनी भयावह पीड़ा से गुजर रहा है, देश का प्रधानमंत्री सैर-सपाटे और विदेश यात्रा में व्यस्त हों, ये मोदी सरकार की गलत प्राथमिकताओं को दर्शाता है।

Back to top button