आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर ट्रक की चपेट में आने से 7 की मौत, 34 घायल

मरने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के मैनपुरी के पास आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर सड़क दुर्घटना में रविवार को कम से कम सात लोगों की मौत हो गई और 34 घायल हो गए। हादसा एक्सप्रेसवे पर एक ट्रक के बस की चपेट में आने से हुआ। बस ने नियंत्रण खो दिया और ट्रक में जा घुसी।

घायलों को इलाज के लिए इटावा के सैफई, पीजीआई भेजा गया

घायलों को इलाज के लिए इटावा के सैफई, पीजीआई भेजा गया है। मरने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना है। बस में फंसे शवों को बस के कुछ हिस्सों को काटकर निकाला गया। दिल्ली से उत्तर प्रदेश के बनारस जा रही थी, जब दुर्घटना हुई थी।

राहत कार्य के लिए एक क्रेन लगाई गई है। यह घटना एक्सप्रेसवे पर 87 किमी के मील के पत्थर के पास हुई, जो कराहल पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आता है। राहत कार्य के लिए दुर्घटना स्थल पर एसपी अजय शंकर रॉय सहित पुलिस मौजूद है।

इस तरह का पहला हादसा नहीं

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर यह इस तरह का पहला हादसा नहीं है। इससे पहले 5 अप्रैल को आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर एक ट्रक के पलट जाने से दो व्यक्तियों की मौत हो गई थी। डीजल की टंकी फटने से चावल की बोरियों को ले जा रहे ट्रक में आग लग गई। यह दुर्घटना उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले में हुई थी। मृतकों की पहचान ड्राइवर सुखराम और क्लीनर इरफान के रूप में हुई।

2018 में, एक टोल प्लाजा पर पुलिस जिप्सी सहित आस-पास के वाहनों में एक पर्यटक बस के पलट जाने से एक्सप्रेसवे पर दो व्यक्तियों की मौत हो गई। बस चालक को गिरफ्तार कर लिया गया। यह बस बिहार के मुजफ्फरपुर से उत्तर प्रदेश के लखनऊ जा रही थी।

पुलिस ने कहा कि टोल प्लाजा की कतार में जाने के दौरान बस के चालक ने नियंत्रण खो दिया और फूलों की गाड़ी सहित आसपास के अन्य वाहनों को टक्कर मार दी। इसने पहले एक फूलवाले को मारा और फिर रेलिंग में चढ़ गया और पुलिस की जिप्सी को टक्कर मारने के लिए दूसरी लेन में कूद गया।

मृतक की पहचान एक टोल कर्मचारी और एक फूलवाले के रूप में हुई थी। हादसे में टोल प्लाजा पर मौजूद कुछ सुरक्षा गार्ड घायल हो गए। वाहन के अंदर मौजूद एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया।

Back to top button