8 माह के बच्चे की जटिल सर्जरी कर डॉक्टरों ने दिया जीवनदान

डॉक्टरों ने बच्चे की त्वचा के तीन आपरेशन किए

रायपुर। गरियाबंद के छुरा निवासी प्रियांशु पाकर (उम्र 18 माह) 5 नवम्बर को घर में खेलते समय अचानक गर्म पानी से तकरीबन 45 फीसदीजल गया था।

तकरीबन 45 फीसदी जलने के बाद उसे पचपेड़ी नाका स्थित कालड़ा नर्सिंग होम में भर्ती किया गया था। गंभीर रूप से जलने से बच्चे की ऊपरी हिस्से की स्किन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थी।

इस कारण डॉक्टरों ने बच्चे की त्वचा के तीन आपरेशन किए। डॉक्टरों ने परिजनों को बताया कि बच्चे की ऊपरी हिस्से की स्किन पूरी तरह से खराब हो चुकी है।

नई स्किन लगा कर बच्चे को पहले जैसा बनाया जा सकता। इसके बाद पिता ने खुद अपने बच्चे को स्किन देने का फैसला किया। डॉक्टरों ने पिता की करीब 55 फीसदी स्किन बच्चे को लगाई।

पिता की स्किन से सर्जरी पूरी नहीं हो पाने के कारण अस्पताल के स्किन बैंक से स्किन लेकर बच्चे की सर्जरी की गई। बच्चे की सर्जरी तीन विशेषज्ञ डॉक्टर सुनील कालड़ा (प्लास्टिक सर्जन), डॉ. ओपी सुंदरानी (क्रिटिकल केयर विभाग), डॉ.नीतिका जैन (पीडियार्टिक्स विभाग) व डॉ. एस दास गुप्ता (क्रिटिकल केयर विभाग) ने किया।

डॉक्टर सुनील कालड़ा ने बताया कि छोटा बच्चा होने के कारण बच्चे को इंफेक्शन के खतरे से बचाने के लिए एमआइसीयू में रखकर बेहतर इलाज उपलब्ध कराया गया। डॉक्टरों का कहना है कि अस्पताल में स्किन बैंक स्थापित किया गया है।

new jindal advt tree advt
Back to top button