पश्चिम बंगाल से तस्करी कर लाए जा रहे 90 किलो गांजा बरामद

कार की डिक्की में लगे साउंड सिस्टम में छुपाकर रखा गया था 24 पैकेट गांजा

अररिया: पश्चिम बंगाल से तस्करी कर कार की डिक्की में लगे साउंड सिस्टम में रखे गए 24 पैकेट गांजा को एसपी हृदयकांत के निर्देश पर चले विशेष अभियान में जोकीहाट थाना पुलिस ने बरामद किया.

एसपी हृदयकांत ने मासिक अपराध गोष्ठी में रविवार को नशा और नशेबाजों के खिलाफ विशेष अभियान चलाने का निर्देश जिले के सभी थानेदारों को दिया था. इसी क्रम में जोकीहाट थानाध्यक्ष विकास कुमार आजाद को सूचना मिली कि सिलीगुड़ी से जोकीहाट के रास्ते एक कार से गांजा समस्तीपुर भेजा जा रहा है. सूचना के बाद स्वयं थानाध्यक्ष और पुलिस बल वाहन जांच में जुट गए. इसी दौरान पहले से मिले कार्यक्रम नंबर के आधार पर एक गाड़ी को पुलिस ने पकड़ लिया .

कार की तलाशी ली तो पहली बार में पुलिस को कोई आपत्तिजनक सामान नहीं मिला. इसके बाद थानाध्यक्ष ने अपने सोर्स से फिर से बात की और पुख्ता रिपोर्ट होने की बात कही. दोबारा पुलिस ने गहनता से जांच की तो पीछे के डिक्की में लगे साउंड बॉक्स को खोला तो उसमें से 14 बड़े और 10 छोटे पैकेट मिले जिसका कुल वजन 90 किलो से अधिक है.

गांजा तस्करी के मामले में जोकीहाट थाना पुलिस ने ड्राइवर समेत दो को गिरफ्तार कियय है जिसमें एक गाड़ी का ड्राइवर अमरजीत पासवान जो वैशाली जिले के जंदाहा का रहने वाला है, जबकि दूसरा विकास कुमार गुप्ता समस्तीपुर के चकलालसाही का रहने वाला है. गांजा की डिलीवरी समस्तीपुर में मुसरीघरारी के एचपी और इंडियन पेट्रोल पंप के बीच दिया जाना था. कोई रंजीत कुमार नाम का व्यक्ति वहां आकर गाड़ी समेत गांजा ले जाने वाले था.

एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने बताया कि सिलीलुड़ी बाजार के समीप एक ढाबा से पश्चिम बंगाल का ही रहने वाला दीपक कुमार गाड़ी लेकर अकेले गया था. करीब तीन घंटे बाद गाड़ी को वापस दे गया. इसके बाद अमरजीत पासवान गाड़ी लेकर विकास गुप्ता के साथ समस्तीपुर के लिए निकला.

बंगाल से बिहार में होने वाले गांजा की तस्करी में मामा और भांजा की जोड़ी काम कर रही है. पश्चिम बंगाल के 24 परगना में जहां मामा गांजा को उपलब्ध कराता है. वहीं बिहार समस्तीपुर के सिरदिलपुर में बैठा भांजा पश्चिम बंगाल से गांजा लाकर बिहार के अन्य इलाकों में तस्करी करवाता है. मामा-भांजा की जोड़ी पुलिस की तफ्तीश में पता लगी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button