किसान आंदोलन में शामिल होने आई 25 साल की युवती से टिकरी बॉर्डर पर गैंगरेप

इन किसान नेताओं के खिलाफ दर्ज हुआ मामला

नई दिल्ली: मोदी सरकार के नए कृषि कानून के खिलाफ किसान संगठनों का आंदोलन लगातार जारी है। लेकिन इसी बीच टिकरी बॉर्डर से एक बड़ी खबर सामने आई है। खबर है कि किसान आंदोलन की हिस्सा बनने आई एक युवती के साथ गैंगरेप हुआ है। बताया जा रहा है कि युवती को कोरोना संक्रमण के चलते अस्पताल ले जाया गया, जहां 30 अप्रैल को उसकी मौत हो गई। मामले में अभी एफआईआर दर्ज किए जाने के चलते अभी खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि इस घटना में 6 लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज किए गए हैं, जिनमें दो महिलाएं भी शामिल हैं।

मिली जानकारी के अनुसार पीड़िता के परिजनों ने 8 दिन बाद शनिवार को शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत में परिजनों ने कहा है कि किसान संगठन के कुछ नेता एक अप्रैल को बंगाल पहुंचे थे। इस दौरान आरोपी जगदीश बराड़ ने खुद को कुश्ती किसान यूनियन का सदस्य बताया। किसान नेताओं से प्रभावित होकर पीड़िता आंदोलन में शामिल होने दिल्ली आ पहुंची।

पीड़िता के परिजनों ने पुलिस को बताया कि ट्रेन में रात के वक्त जब सब सो गए थे तब अनिल पीड़िता का हाथ पकड़कर उसे किस करने लगा। हालांकि इस दौरान पीड़िता ने फटकार लगा दी और दोबारा ऐसा न करने की चेतावनी दी। इसके बाद पीड़िता 12 अप्रैल को दिल्ली पहुंची, जहां उसे टेंट शेयर करना पड़ा। इसके दो दिन बाद पीड़िता ने अपने पिता को फोनकर पूरी घटना बताई। 16 अप्रैल को पीड़िता ने अपने पिता को बताया कि उसने पूरी बात योगिता और जगदीश को बताई है। जगदीश के सामने उसने एक वीडियो स्टेटमेंट भी रिकॉर्ड किया था।

वहीं, 18 अप्रैल को पीड़िता को लड़कियों के साथ टेंट में शिफ्ट कर दिया गया और उसके बाद 21 अप्रैल को हल्का बुखार आने के बाद 24 अप्रैल तक उसकी स्थिति बगड़ने लगी। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती करया गया, जहां 30 अप्रैल को युवती की मौत हो गई। फिलहाल पीड़िता के परिजनों की शिकायत पर किसान आंदोलन से जुड़े अनिल मलिक, अनूप सिंह चनौत, जगदीश बराड़, अंकुर सांगवान, कविता आर्य और योगिता सुहाग के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button