सूरत में ईद से पहले एक व्यापारी का बड़ा जैकपोट, 11 लाख रुपये में बेचा ‘तैमूर’

ईद के दिन दी जाने वाली क़ुर्बानी के मद्देनजर बाजार में बकरों की कीमतें आसमान छू रही

सूरत:बकरीद का त्योहार मुस्लिम लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण त्योहार होता है. बकरीद को ईद-उल-अजहा के नाम से भी जाना जाता है. रमजान के लगभग 70 दिनों के बाद बकरीद को मनाया जाता है. इस साल बकरीद का त्योहार 21 जुलाई को मनाने की घोषणा दिल्ली के जामा मस्जिद के नायब शाही इमाम सैय्यद शाबान ने की है.

वहीँ ईद के दिन दी जाने वाली क़ुर्बानी के मद्देनजर बाजार में बकरों की कीमतें आसमान छू रही हैं. ऑनलाइन मार्केट में भी बकरे लाखों रुपये में बिक रहे हैं. गुजरात के सूरत में एक व्यापारी का ईद से पहले बड़ा जैकपोट लगा है. उसने तैमूर नाम के बकरे को 11 लाख रुपये में बेचा है.

सूरत शहर के सगरामपुरा इलाके के रहने वाले अशफाक वर्षों से बकरे का व्यापार करते आ रहे हैं. इस बार भी बकरीद से पहले बड़ी संख्या में बकरों को बिक्री के लिए रखा गया है, जिसमें कश्मीर, काठियावाड़ी ज़ेटा, कोटा और शिरोइन बकरों की नस्लें शामिल हैं.

बकरों की कई तरहों की नस्लों के बीच तैमूर नाक का बकरा बेहद खास है. पंजाबी नस्ल के इस बकरे का वजन 192 किलो ग्राम है, जबकि उसकी ऊंचाई 46 इंच है. देखने में तैमूर नाम का ये बकरा बेहद शानदार है.

अशफाक ने बताया कि तैमूर नाम के इस बकरे को सूरत के ही एक बिल्डर ने 11 लाख रुपये में खरीदा है. बकरीद के दिन तैमूर की कुर्बानी दी जायेगी. तैमूर को पूरी तरह से सजाया गया है.
बता दें बकरीद पर बकरे की कुर्बानी के वक्त ध्यान रखना होता है कि जानवर को चोट ना लगी हो और वो बीमार भी ना हो. इसलिए अच्छे बकरे की डिमांड अधिक रहती है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button