छत्तीसगढ़

गुंडरदेही थाना पहुंचा पति पत्नी के बीच विवाद का एक मामला, अधिक्षक ने कराई सुलह

लेमन साहू गुण्डरदेही:

बालोद: गुंडरदेही थाने में पति पत्नी के बीच विवाद का एक मामला पहुंचा था। स्थिति इस हद तक आ पहुंची थी कि पति-पत्नी एक दूसरे का चेहरा देखना तक पसंद नहीं कर रहे थे। दोनों एक दूसरे से अलग रहना चाह रहे थे। पत्नी के परिजन भी थाने आ धमके थे और पति के खिलाफ रिपोर्ट लिखवा कर उससे छुटकारा पाना चाह रहे थे।

थाने में शिकायत दर्ज होने वाली थी कि वहां के गुण्डरदेही पुलिस ने दोनों के बीच दूरियां खत्म करने की कोशिश की। लगभग 15 मिनट तक पति पत्नी को बैठाकर पुलिस ने समझाया कि आखिर दोनों के बीच विवाद की वजह क्या है। कुछ बातें निकल कर आई गुण्डरदेही पुलिस ने दोनों को समझाया कि शक पति पत्नी दोनों की जिंदगी बर्बाद कर देती है।

कभी एक दूसरे पर शक ना करें। छोटी छोटी बातें हर घर में होती है। उन्हें इग्नोर करके चले तभी हम गृहस्थ जीवन को अच्छे से चला सकते हैं। उन्होंने समझाया कि पति-पत्नी 100% एक दूसरे के लिए काबिल या सही हो, ऐसा बहुत कम होता है। एक दूसरे में कुछ ना कुछ कमियां होती है। जिन्हें हमें स्वीकार करके चलना होता है।

हम चाहेंगे कि सामने वाला हम जैसा हो वैसे ही मिले तो यह मुश्किल होता है, इसलिए एक दूसरे को जिंदगी में एडजस्ट करना ही पड़ता है। पति-पत्नी इस बात को समझें और दोनों फिर साथ रहने के लिए राजी हुए और फिर कभी झगड़ा ना करने की बात कहने लगे।

पत्नी कहती थी देर रात तक घर आता था पति पत्नी का कहना था कि उनका पति देर रात को घर आता है, इससे उन्हें शक होता था तो वहीं पति सवाल पूछे जाने पर झगड़ा करने लगता था।

छोटी-छोटी बातों पर दोनों के बीच विवाद बढ़ जाता था और शादी के कुछ साल बाद ही रिश्ते में दरार पड़ गई थी और दोनों अलग अलग रहने की बात करते हुए थाने तक आ पहुंचे थे लेकिन यहां पुलिस की समझाइश ने दोनों के रिश्ते की दरार को भर दिया और फिर साथ रहने को राजी हो गए और खुशी-खुशी अपने घर लौटे।

दंपती ने गुण्डरदेही पुलिस को भी धन्यवाद दिया कि उन्होंने उनकी जिंदगी को बिखरने से बचा लिया। ने उन्हें नई शुरुआत करने को कहा कि जिंदगी की गाड़ी पति-पत्नी रूपी दो पहियो से ही चलती है। जिंदगी में उतार चढ़ाव लगा रहता है। एक दूसरे का साथ निभाते हुए चलिए।

एक दूसरे के काम आए कोई तीसरा काम नहीं आएगा। पुलिस के द्वारा जिंदगी की नसीहत के पाठ के साथ दोनों को अलग होने से बचा लिया और जो अलग होने के लिए थाने आए थे वह फिर साथ होकर अपने घर लौटे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button