राष्ट्रीय

कोरोना संक्रमित एक मरीज ने पीबीएम अस्पताल के शौचालय में ही तोड़ा दम

मरीज का दम फूलने पर चिकित्सकों को बुलाती रही उसकी बेटी

बीकानेर: बीकानेर के मुक्ताप्रसाद में किराए के मकान में रहने वाला 55 वर्षीय व्यक्ति 16 जून को कोरोना पॉजिटिव आया। उसे पीबीएम अस्पताल के कोविड-19 वार्ड में भर्ती किया गया।

बाद में इसकी 14 वर्षीय बेटी के भी कोरोना संक्रमित पाए जाने पर उसे भी कोविड अस्पताल में भर्ती किया गया। दोनों पिता-पुत्री का कोरोना का उपचार चल रहा था। सोमवार सुबह 55 वर्षीय व्यक्ति शौचालय गया, लेकिन काफी देर तक वापस नहीं लौटा।

करीब 20 मिनट तक पिता के वापस नहीं आने पर 14 वर्षीय बेटी शौचालय पहुंची। वहां का दृश्य देखकर बेटी घबरा गई। उसके पिता शौचालय के फर्श पर गिरे हुए थे। बेटी दौड़कर वार्ड के चिकित्सकों के पास पहुंची और पिता के शौचालय में पड़े होने की जानकारी दी।

आरोप है कि चिकित्सकों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया और मरीज को संभाला नहीं। ऐसे में बेटी ने अपने मकान मालिक को फोन कर पूरी घटना बताई। तब मकान मालिक ने जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम को फोन कर अवगत लगाया।

जिला कलक्टर ने फोन पर पीबीएम अधीक्षक को फटकार लगाई तब चिकित्सक व कार्मिक शौचालय पहुंचे। वे बेहोश मरीज को उठाकर बैड तक लाए और जांच की। तब तक कोरोना मरीज की मौत हो चुकी थी।

किसी ने फोन कर मुझे अस्पताल के शौचालय में मरीज तड़प रहा होने की जानकारी दी थी। तुरंत पीबीएम अधीक्षक को इससे अवगत कराया। यह घटना अमानवीय और पूरे तंत्र के लिए शर्मनाक है। पूर्व में गठित जांच कमेटी की बैठक बुलाई है। दो दिन में पूरे प्रकरण की विस्तृत जांच रिपोर्ट देने के लिए निर्देश दिए हैं। पीबीएम के संबंधित अधिकारियों को तलब किया है।
-कुमार पाल गौतम, जिला कलक्टर, बीकानेर

Tags
Back to top button